ख़ास रिपोर्ट

चीन के खिलाफ वियतनाम को भारत से मिली ब्रह्मोस मिसाइल, आधिकारिक पुष्टि नहीं

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
393
| अगस्त 18 , 2017 , 17:23 IST | नई दिल्ली

डोकलाम में आमने सामने लड़ाई की मुद्रा में खड़ी भारतीय और चीनी सेनाओं के बीच दो महीने से चला आ रहा विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है इसी बीच ख़बर आई है कि भारत ने चीन ते दुश्मन वियतनाम को ब्रह्मोस सुपरसोनिक मिसाइल दिए हैं।

भारत द्वारा वियतनाम को ब्रह्मोस दिए जाने से चीन को और गुस्सा आ सकता है क्योंकि ब्रह्मोस दुनिया के सबसे उन्नत मिसाइलों में से एक माना जाता है और माना जा रहा है कि वियतनाम इस मिसाइल को चीन के खिलाफ समंदर में तैनात कर सकता है। बता दें कि चीन और वियतनाम के बीच भी दशकों से तनातनी बरकरार है। दक्षिणी चीन सागर विवाद पर वियतनाम और चीन में हमेशा ठनती रही है।

हालांकि, भारत ने मिसाइल बिक्री पर अभी तक कोई टिप्पणी नहीं की है और इसका विवरण भी अब तक उपलब्ध नहीं हो सका है कि वियतनाम को बेची गई मिसाइल का कितना मूल्य है या कितनी मिसाइल प्रणाली सौदे में शामिल है। चीन के खिलाफ भारत हमेशा से वियतनाम को मदद करता रहा है। इसके अलावा भारत वियतनाम को आकाश मिसाइल देने पर भी विचार कर रहा है, वहीं सुखोई 30 एमकेआई लड़ाकू विमानों भी प्रशिक्षण देगा।

शुक्रवार को आयोजित एक संवाददाता सम्मेलन में मिसाइल पर एक सवाल का जवाब देते हुए वियतनामी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ले थी गुरु हांग ने कहा कि वियतनाम द्वारा रक्षा उपकरणों की खरीद शांति और आत्मरक्षा की नीति के अनुरूप है और यह राष्ट्रीय रक्षा में सामान्य अभ्यास है।

इस मल्टी मिशन मिसाइल की मारक क्षमता 290 किलोमीटर की है और इसकी गति 2.8 मैक है। यह भूमि, समुद्र, उप समुद्र और वायु से समुद्र और भूमि लक्ष्यों के खिलाफ प्रक्षेपित किए जाने में सक्षम है।


कमेंट करें