इंटरनेशनल

लंदन में माल्या के आए बुरे दिन, भारतीय बैंकों से 10 हजार करोड़ का केस हारे

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
787
| मई 9 , 2018 , 13:32 IST

भारत के कई बैंको से करोड़ो रुपये का कर्जा लेकर देश से भागे शराब कारोबारी विजय माल्या को इंग्लैंड की कोर्ट से झटका लगा है। लंदन की एक अदालत ने भारत के बैंकों की ओर से दायर किए गए मुकदमे में माल्या के खिलाफ फैसला दिया है। कोर्ट ने माल्या की याचिका खारिज कर दी है। अदालत ने भारतीय अदालत के उस आदेश को सही बताया है कि भारत के 13 बैंक माल्या से 1.55 अरब डालर की राशि वसूलने के पात्र हैं।

गौरतलब है कि 13 भारतीय बैंकों ने 1.15 अरब पौंड (करीब 10 हजार करोड़ रुपए) वसूल करने को लेकर लंदन की कोर्ट में मुकदमा दायर किया था। सुनवाई के बाद माल्या के वकीलों ने कोई भी टिप्पणी करने से इनकार कर दिया।

पटियाला कोर्ट का संपत्ति अटैच करने का आदेश-:

दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट ने मनी लॉन्ड्रिंग केस में कारोबारी विजय माल्या की संपत्तियों को अटैच करने का आदेश दिया है। अदालत ने फॉरेन एक्सचेंज रेग्युलेशन एक्ट (FERA) के उल्लंघन से जुड़े मनी लॉन्ड्रिंग मामले में यह निर्देश दिया है। मामले की अगली सुनवाई के लिए 5 जुलाई की तिथि मुकर्रर की गई है। आपको बता दें कि विजय माल्या 9000 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी और मनी लॉन्ड्रिंग मामले में वांछित है।

कितने कर्ज में है माल्या ?

विजय माल्या के स्वामित्व वाली किंगफिशर एयरलाइन्स पर 17 बैंकों का 6963 करोड़ रुपए का कर्ज है। हालांकि, ब्याज मिलाकर यह कर्ज कुल 9400 करोड़ रुपए से ज्यादा है। आरोप है कि विजय माल्या की किंगफिशर एयरलाइन्स ने IDBI से मिले 900 करोड़ रुपए के लोन में से 254 करोड़ रुपए का निजी इस्‍तेमाल किया। आपको बता दें, किंगफिशर एयरलाइन्स को 2012 में बंद कर दिया गया था और 2014 में फ्लाइंग परमिट भी रद्द किया गया था।

जानबूझकर नहीं चुकाया कर्ज -:

माल्या पर आरोप है कि उसने किंगफिशर एयरलाइंस के लिए गए लगभग 9,400 करोड़ रुपये के कर्ज को जानबूझकर नहीं चुकाया। जज हेनशॉ ने माल्या की वह याचिका भी खारिज कर दी, जिसमें उसने दुनिया भर में फैली अपनी संपत्ति को फ्रीज करने के आदेश को वापस लेने की गुहार लगाई थी।

जज हेनशॉ ने माल्या को अपने फैसले के खिलाफ अपील करने की मंजूरी देने से भी इनकार कर दिया। इसका मतलब है कि माल्या के वकीलों को अब सीधे कोर्ट ऑफ अपील में ही याचिका दाखिल करनी होगी।

इसे भी पढ़ें-: कर्नाटक चुनाव से ठीक पहले मिला फर्जी वोटर कार्ड का जखीरा, सियासी ड्रामा शुरू

कर्जदाताओं की ओर से पेश लॉ फर्म टीएलटी के अनुसार, कोर्ट के फैसले ने उनके मुवक्किलों को भारतीय ऋण वसूली ट्रिब्यूनल के निर्णय को तुरंत लागू करने की मंजूरी दे दी है। ब्रिटेन की अदालत में माल्या के प्रत्यर्पण को लेकर भी मुकदमा चल रहा है।

18 अप्रैल को लंदन में गिरफ्तार हुआ था माल्या-:

62 साल के विजय माल्या पर ब्रिटेन में कई मुकदमे चल रहे हैं। भारत में उसके खिलाफ धोखाधड़ी और मनी लांड्रिंग को लेकर मुकदमे दर्ज हैं। भारत सरकार की ओर से जारी वारंट पर कार्रवाई करते हुए माल्या को पिछले साल 18 अप्रैल को लंदन में गिरफ्तार किया गया था। माल्या 2016 में भारत से भाग गया था। तब उसने यह कहा था कि वह अपने बच्चों के पास जा रहा है। हालांकि बाद में उसने भारत लौटने से इनकार कर दिया।


कमेंट करें