नेशनल

आखिर क्या है 'आसियान'? भारत कब बना इसका सदस्य, 5 बड़ी बातें

icon अमितेष युवराज सिंह | 0
114
| जनवरी 26 , 2018 , 11:42 IST

आज पूरा देश 69वां गणतंत्र दिवस मना रहा है। इस मौके पर इसको और खास बनाने के लिए पहली बार शामिल हो रहे 'आसियान' देशों के 10 राष्ट्राध्यक्ष। अब आप सोच रहे होंगे कि आसियान क्या है ? जानकारी के लिए बता दें आसियान यानी दक्षिण पूर्वी एशियाई देशों के संगठन जिसे दक्षिण पूर्वी एशियाई देशों के साथ मिलकर बनाया गया है। 

इस संगठन का उद्देश्य सभी 10 देशों के बीच आर्थिक साझेदारी, व्यापार में बढ़ावा, इसके साथ ही क्षेत्र में शांति और स्थिरता कायम करना है। बता दें इस संगठन का मुख्यालय इंडोनेशिया की राजधानी जकार्ता में है। इस बार असियान देशों के नेता भारत के 69वें गणतंत्र दिवस समारोह में मुख्य अतिथि हैं। इसको भारत की बेहतरीन विदेश नीति का हिस्सा माना जा रहा है। 

बड़ी बातें....

  1. आसियान की स्थापना 8 अगस्त 1967 को थाईलैंड की राजधानी बैंकॉक में की गई थी। उस समय इस संगठन में थाईलैंड के अलावा इंडोनेशिया, मलेशिया, फिलिपींस, सिंगापुर शामिल थे।

  2. ब्रुनेई 1984 में और वियतनाम को 1995 में शामिल किया गया था. फिर 1997 में लाओस और म्यांमार को इसका हिस्सा बनाया गया।

  3. 1999 में कंबोडिया में को इसका सदस्य बनाया गया। 1976 में आसियान की पहली बैठक हुई जिसका एजेंडा शांति और सहयोग देनाथा। 

  4. 1994 में आसियान ने एशियाई क्षेत्रीय फोरम की स्थापना की. इसका उद्देश्य सुरक्षा को बढ़ावा देना था। इसके सदस्य अमेरिका, रूस, भारत, चीन, जापान और उत्तरी कोरिया समेत कुल23 सदस्य हैं। 

  5. 1992 में भारत असियान का 'क्षेत्रीय संवाद भागीदार' और 1996 में पूर्ण सदस्य बन गया। चीन की भी कोशिश है कि उसे भी आसियान का पूर्ण सदस्य बना जाए।


author
अमितेष युवराज सिंह

लेखक न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया में असिस्टेंट एग्जीक्यूटिव प्रोड्यूसर हैं

कमेंट करें