नेशनल

कोर्ट ने कहा Whatsapp पोस्ट को नहीं माना जाएगा सबूत, जानिए क्या है मामला

सतीश वर्मा, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
157
| जुलाई 18 , 2017 , 18:48 IST | नई दिल्ली

वॉट्सऐप पर शेयर किए गए किसी पोस्ट को सबूत या दस्तावेज नहीं माना जाएगा। दिल्ली हाई कोर्ट ने एक मामले में सुनवाई के दौरान यह बात कही। कोर्ट ने साथ ही कहा कि इसे तब तक दस्तावेज नहीं माना जाएगा जब तक उसकी ऑरिजनल कॉपी पेश नहीं की जाती।

अरुणाचल के पूर्व सीएम कालिखो पुल की खुदकुशी मामले में आया फैसला

दरअसल, अरुणाचल प्रदेश के पूर्व सीएम कलिखो पुल की कथित खुदकुशी मामले में याचिका दायर कर राज्य, वहां की पुलिस और सीबीआई के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने की मांग की गई थी।

Kalikho 1

इस याचिका पर सुनवाई के दौरान जस्टिस संजीव सचदेवा ने यह बात कही। पुल का शव पिछले साल 9 अगस्त को मुख्यमंत्री के आधिकारिक आवास पर पाया गया था। कोर्ट ने याचिकाकर्ताओं (नैशनल लॉयर्स कैम्पेन फॉर जुडिशल ट्रांसपैरंसी व अन्य), से सूचना का स्रोत पूछा। याचिकाकर्ताओं ने बताया कि उन्हें यह जानकारी वॉट्सऐप पोस्ट से मिली थी।

इसके बाद कोर्ट ने कहा कि,

वॉट्सऐप पोस्ट भेजने वाले का न नाम बताया गया है, न ही याचिकाकर्ता को सीधे यह पोस्ट भेजा गया है। याचिकाकर्ता वॉट्सऐप ग्रुप पर आए एक मेसेज के जरिए गंभीर आरोप लगा रहे हैं

Whatapp post

कालिखो के सुसाइड नोट को व्हाट्सएप पर किया गया था शेयर

याचिकाकर्ता के मुताबिक, यह कथित रूप से सूसाइड नोट है और हिंदी के नोट को अंग्रेजी में अनुवाद कर वॉट्सऐप पर शेयर किया गया था। याचिकाकर्ता का कहना था कि यह दस्तावेज एक वेबसाइट से लिए गए हैं जिसमें यह दावा किया गया था कि सूसाइड नोट को हिंदी से अंग्रेजी में अनुवाद किया गया है।

Whatsapp 2

याचिकाकर्ता कोर्ट में ओरिजनल सुसाइड नोट नहीं कर सके पेश

हालांकि, याचिकाकर्ता वास्तविक सूसाइड नोट पेश करने में विफल रहे। इसके बाद कोर्ट ने कहा, 'मौजूदा केस में याचिकाकर्ता इस बात को स्वीकार कर रहे हैं कि उनके पास कोई गुप्त जानकारी नहीं है। कथित सूचना का वे सच होने का भी दावा नहीं कर रहे हैं।' एविडेंस ऐक्ट 1872 के मुताबिक, वॉट्सऐप पोस्ट को दस्तावेज नहीं माना जाता। कोर्ट ने याचिका को खारिज करते हुए याचिककर्ताओं पर 25,000 रुपये का जुर्माना भी लगाया है।

 


कमेंट करें