नेशनल

कासगंज में क्यों लगी आग? चंदन की मौत पर 48 घंटे से मौन है योगी सरकार

सतीश वर्मा, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
818
| जनवरी 27 , 2018 , 16:02 IST

शुक्रवार को तिरंगा यात्रा के दौरान हुए बवाल में मृत चंदन गुप्ता के अंतिम संस्कार के दौरान श्मशान पर गुस्सा फूट गया। बताया जा रहा है कि अंत्येष्टि कर लौट रहे आक्रोशित लोगों ने सड़क किनारे खड़ी दो बसों में लगाई आग, एक खोका फूंका है। उपद्रवियों ने आधा दर्जन दुकानों में आग लगा दी। शहर के बाराद्वारी पर बर्तन की दुकान में शटर तोड़कर तोडफ़ोड़ भा किया।

साध्वी प्राची के काफिले को पुलिस ने रोका

सांप्रदायिक बवाल के बाद कासगंज जा रही साध्वी प्राची व उनके काफिले को सिकंदराराऊ पुलिस ने कासगंज रोड पर रोका। इस दौरान सिकंदराराऊ कोतवाल से नोंकझोंक हो गई। गाड़ी की चाबी निकालने से समर्थक आक्रोशित हो गए। समर्थकों के साथ साध्वी पंत चौराहा पर धरने पर बैठ गईं। अलीगढ़-एटा व मथुरा-बरेली मार्ग पर जाम लगा दिया गया है ।

कासगज में इस तरह भड़की हिंसा

गणतंत्र दिवस पर समुदाय विशेष के लोगों ने विद्यार्थी परिषद् की तिरंगा यात्रा पर पथराव किया तो पूरे शहर में बवाल हो गया। जमकर फायरिंग और पथराव हुआ। कई जगह आगजनी की कोशिश की। गोली लगने से एक युवक की मौत हुई है जबकि दो घायल हुए है। पथराव में आधा दर्जन चोटिल है। जिसमें कुछ पुलिस कर्मी भी शामिल है। देर शाम शहर में आरएएफ ने मोर्चा संभाला है।

तिरंगा यात्रा में पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाने के बाद भड़की हिंसा

शुक्रवार सुबह विद्यार्थी परिषद एवं हिंदूवादी संगठन के कार्यकर्ता बाइक से तिरंगा यात्रा निकाल रहे थे। यह यात्रा मुस्लिम बाहुल्य मुहल्ला हुल्का में पहुंची तो यहां कार्यकर्ताओं ने वंदे मातरम, भारत माता की जय के नारे लगाए। जिस पर समुदाय विशेष के एक युवक ने पाकिस्तान जिंदाबाद का नारा लगा दिया। इसी बात को लेकर दोनों पक्षों की ओर से नारेबाजी होने लगी। देखते ही देखते दोनों ओर से पथराव होने लगा। मुस्लिम बस्ती में घिरे कार्यकर्ता अपनी दो दर्जन से अधिक बाइक छोड़ भागे। जहां उनकी बाइकों को आग के हवाले कर दिया गया और तोडफ़ोड़ कर दी। घटना की खबर शहर में फैली तो हिंदूवादी एकत्रित हो गए।

दोनों समुदाय के लोगों ने एक-दूसरे पर किया पथराव

दूसरे समुदाय के लोगों ने भी मोर्चा संभाल लिया। घर की छतों से पथराव और फायरिंग शुरू कर दी। कुछ ही देर में उपद्रवियों ने तहसील रोड पर भी फायरिंग कर दी। जिसमें गोली लगने से गली शिवालय रेलवे रोड निवासी चंदन गुप्ता पुत्र सुशील गुप्ता की मौत हो गई। जबकि युवक प्रिंस एवं नौशाद घायल हो गए। नौशाद को अलीगढ़ रेफर किया गया है। उपद्रवियों के पथराव में आधा दर्जन अन्य घायल हुए है। जिसमें कुछ पुलिस कर्मी भी शामिल है। घटना की जानकारी मिलते ही डीएम आरपी सिंह, एसपी सुनील कुमार सिंह पुलिस बल के साथ शहर में पहुंच गए और जगह जगह मोर्चा संभाला।

चंदन के पिता ने की शांति की अपील

चंदन के पिता ने शहर के लोगों से अपील की कि वे शांति बरतें। चंदन के पिता ने बताया, ‘बच्चे भारत माता की जय और वंदेमातरम् कहते हुए अपने हाथों में झंडे लेकर जा रहे थे। तहसील रोड पर कुछ लोगों ने मुझे बताया कि एक समुदाय विशेष के लोगों ने कहा कि इधर से क्यों जा रहे हो। बाद में गाड़ी में डंडे वगैरह घुसाकर फायरिंग कर मेरे बच्चे को मार दिया। मैं यही चाहता हूं कि शहर में शांति बनी रहे।

Also Read: कासगंज में फिर भड़की सांप्रदायिक हिंसा, दुकानों-गाड़ियों में लगाई गई आग

कुछ ही देर में सांसद राजवीर सिंह, कासगंज विधायक देवेंद्र राजपूत, पटियाली विधायक ममतेश शाक्य, अमांपुर विधायक देवेंद्र प्रताप, मारहरा के विधायक वीरेंद्र, छर्रा के विधायक के अलावा एडीजी अजय आनंद, कमिश्नर सुभाष शर्मा, आईजी डा. संजीव गुप्ता एटा के एसएसपी को भी मौके पर पहुंच गए। दिनभर शहर में अघोषित कर्फ्यू जैसे हालत रहे। पुलिस उपद्रवियों को दौड़ाती रही। देर शाम तक शहर में बवाल होता रहा। पुलिस ने कई बार लाठी चार्ज किया। दोपहर के बाद समुदाय विशेष के एक धर्मस्थल के निचले भाग में आग लगा दी। कई अन्य स्थानों पर भी आगजनी का प्रयास किया गया है। देर शाम जिला चिकित्सालय पर उच्च अधिकारियों और सांसद, विधायक की मौजूदगी में मृतक के शव का पोस्टमार्टम कराया गया। एडीजी ने बताया कि उपद्रवियों को चिन्हित कर कड़ी कार्रवाई की जाएगी। शहर के लोग शांति व्यवस्था बनाए रखे। यदि पुलिस की कमी पाई जाती है तो वहां भी कार्रवाई की जाएगी।

Also Read: यूपी के कासगंज में ABVP की तिरंगा यात्रा में सांप्रदायिक तनाव, 1 की मौत

पुलिस उपद्रवियों को दौड़ाती रही। देर शाम तक शहर में बवाल होता रहा। पुलिस ने कई बार लाठी चार्ज किया। दोपहर के बाद समुदाय विशेष के एक धर्मस्थल के निचले भाग में आग लगा दी। कई अन्य स्थानों पर भी आगजनी का प्रयास किया गया है। देर शाम जिला चिकित्सालय पर उच्च अधिकारियों और सांसद, विधायक की मौजूदगी में मृतक के शव का पोस्टमार्टम कराया गया।

एडीजी ने बताया कि उपद्रवियों को चिन्हित कर कड़ी कार्रवाई की जाएगी। शहर के लोग शांति व्यवस्था बनाए रखे। यदि पुलिस की कमी पाई जाती है तो वहां भी कार्रवाई की जाएगी। मृतक के 302 बोर की गोली लगी है। सांसद राजवीर सिंह का कहना है कि घटना की जांच कराई जाएगी।मृतक के परिजनों को मुआवजा दिलाया जाएगा। घटना को लेकर मुख्यमंत्री से मिलेंगे। सीएम ने घटना की जानकारी ली है।


कमेंट करें