नेशनल

गांधी की हत्या में गोलवलकर को पुलिस ने क्यों किया था गिरफ्तार?

icon कुलदीप सिंह | 0
132
| जनवरी 30 , 2018 , 16:44 IST

आज महात्मा गांधी की पुण्यतिथि है। दुनिया को अहिंसा की ताकत बताने वाले गांधी की हत्या आज ही के दिन हुई थी। 30 जनवरी 1948 को शाम के करीब 5 बजकर 17 मिनट पर उनकी हत्या की गई। जब गांधी जी दिल्ली के बिरला हाउस में एक प्रार्थना सभा में हिस्सा लेने जा रहे थे उसी दौरान उनकी हत्या की गई। गांधी के हत्याकांड को लेकर RSS और उससे जुड़े हिन्दू संगठनों पर शक की सुई गई , महात्मा गांधी की हत्या के सिलसिले में माधव सदाशिव गोलवलकर (तात्कालीन सरसंघचालक RSS) को गिरफ्तार भी किया गया और कई हिन्दू संगठनों पर पंडित जवाहर लाल नेहरु के नेतृत्व वाली सरकार ने प्रतिबंध भी लगा दिया था। 

गांधी जी इस प्रार्थना सभा में आभा और मनु के साथ जा रहे थे तभी सामने से नाथूराम गोडसे ने उनको 3 गोलियां मारी और मौके पर ही उनकी मौत हो गई। जानकारी के लिए बता दें गांधीजी ने अपने जीवन के 12 हजार 75 दिन स्वतंत्रता संग्राम को दिए लेकिन उनको आजादी का सुकून मात्र 168 दिनों तक ही मिला।महात्मा गांधी की हत्या से पूरा भारत देश दहल गया था। उनकी हत्या ने पूरे देश को शोक में डाल दिया था।

गोली लगते ही बापू का सफेद वस्त्र रक्तरंजित हो गया। उनका चेहरा सफेद पड़ गया और वंदन के लिए जुड़े हाथ अलग हो गए। क्षण भर वे अपनी सहयोगी आभा के कंधे पर अटके रहे। उनके मुंह से शब्द निकला हे राम। जब तक किसी को कुछ भी समझ आता तब तक 78 साल के महात्‍मा गांधी हमारे बीच से जा चुके थे।

इनकी हत्या के पीछे गोडसे थे, गोडसे ने इनकी हत्या की और वही खड़ा रहा। गोडसे ने बताया की गांधी की 'हत्या का जिम्मेदार मैं और केवल मैं हूं' , और इस प्रकार से अहिंसा के सबसे बड़े नायक का अस्तित्व हिंसा के जरिए मिटा दिया गया। वीडियों में देखिए आखिर क्यों RSS के 1948 में सरसंघचालक रहे माधव सदाशिव गोलवलकर को पुलिस ने गिरफ्तार किया था ? और कैसे वो बाद में सुबूतों के आभाव में रिहा भी कर दिए गए। 

देखें वीडियो:


author
कुलदीप सिंह

Executive Editor - News World India. Follow me on twitter - @KuldeepSingBais

कमेंट करें