नेशनल

वर्ल्ड यूथ स्किल डेः राजस्थान में लाखों युवा हुए हुनरमंद, मिल रहा रोजगार

icon SATISH KUMAR VARMA | 0
76
| जुलाई 15 , 2017 , 13:45 IST | राजस्थान

आज पूरी दुनिया में तीसरा विश्व युवा कौशल दिवस मनाया जा रहा है। पुरे देशभर में बेरोजगारी आज एक बड़ी समस्या है। साथ ही युवाओं की ऊर्जा को किस तरह नकारात्मकता से बचाकर देश-दुनिया के विकास में सकारात्मक तरीके से उपयोग लिया जाए यह भी दुनिया के सामने एक बड़ी चुनौती है।

आपको बता दें, संयुक्त राष्ट्र की जनरल असेम्बली ने साल 2014 में एक प्रस्ताव लेकर हर साल 15 जुलाई को विश्व युवा कौशल दिवस के रूप में मनाने का एलान किया था।

Download (2)

राजस्थान की अगर बात करें तो कौशल विकास की दिशा में कई महत्वपूर्ण कार्य हुए हैं। प्रदेश में जहां बड़ी संख्या में युवाओं को कौशल प्रशिक्षण मुहैया करवाया गया है, वहीं हुनर के जरिए रोजगार भी लाखों युवाओं को उपलब्ध हुआ है।

कौशल विकास को बढ़ावा देना प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की प्राथमिकताओं में शामिल है। नरेन्द्र मोदी के साथ ही मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे का भी कौशल विकास पर खास ध्यान है। राजस्थान देश भर में कौशल विकास कार्यक्रम को क्रियान्वित करने में अग्रणी है और इसके लिए दो बार गोल्ड ट्रॉफी भी प्रदेश को मिल चुकी है।

राजस्थान में साल 2015 में कौशल, नियोजन एवं उद्यमिता विभाग के नाम से एक अलग विभाग का गठन किया गया। वहीं देश की पहली स्किल यूनिवर्सिटी भी जयपुर में स्थापित की गई है। मार्च 2017 में विधानसभा में अधिनियम पारित करवाकर इस यूनिवर्सिटी की स्थापना की गई है और हाल ही में ललित के. पंवार को इस यूनिवर्सिटी का पहला कुलपति भी नियुक्त किया गया है।

0.59506400-1436975702-bmm-7379

राजस्थान में पिछले तीन साल में करीब 881 नए आईटीआई खोले गए हैं और अब प्रदेश का ऐसा कोई ब्लॉक नहीं है जहां कम से कम एक आईटीआई नहीं हो। प्रदेश के औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थानों में 88 अलग-अलग ट्रेंड्स में युवाओं को प्रशिक्षित किया जा रहा है।

प्रदेश में आरएसएलडीसी के माध्यम से अब तक 2 लाख 8 हजार युवाओं को प्रशिक्षित किया जा चुका है, जबकि आईटीआई संस्थानों से करीब 5 लाख स्टूडेंट्स को जोड़ा गया है। कई विदेशी कम्पनियों से करार कर युवाओं को स्तरीय कौशल प्रशिक्षण उपलब्ध करवाया जा रहा है और कौशल प्रशिक्षण में नई प्रौद्योगिकी का भी भरपूर इस्तेमाल किया जा रहा है।

414

मुख्यमंत्री का सपना कौशल प्रशिक्षण के जरिए 15 लाख युवाओं को रोजगार उपलब्ध करवाना है और अब तक लाखों युवाओं को रोजगार हासिल भी हो चुका है।


author
Satish Kumar Varma

कमेंट करें