वीडियो/तस्वीरें

किर्गिस्तान की राजकुमारी की इस तस्वीर से मुसलमान क्यों नाराज हैं?

श्वेता बाजपेई, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
1917
| जुलाई 31 , 2017 , 17:09 IST | बिशकेक

किर्गिस्तान के राष्ट्रपति की बेटी आलिया शेजियेवा अपने इंस्टाग्राम पोस्ट को लेकर खबरों में हैं। उन्होंने बेटे ब्रेस्टफीडिंग कराने के वक्त की फोटो पोस्ट की थी। 75 फीसदी मुस्लिम आबादी वाले देश में उनकी इस फोटो की काफी आलोचना हो रही है। लोगों ने उनपर 'अनैतिक बर्ताव' का आरोप लगाया। इस तस्वीर में आलिया अंडरवियर में हैं और अपने बेटे को दूध पिला रही हैं।

इसी साल अप्रैल में आलिया ने ये तस्वीर सोशल मीडिया पर पोस्ट की थी। तस्वीर के साथ उन्होंने लिखा था,

मेरे बेटे को भूख लगती है तो मैं कहीं भी और कभी भी उसे स्तनपान कराती हूं।

 

आलोचनाओं के बाद अलिया ने अपनी विवादित तस्वीर हटा ली। आलिया ने अपनी प्रेग्नेंसी के दौरान की भी काफी फोटोज इंस्टाग्राम पर पोस्ट कर रखी हैं।

20 साल की आलिया शेजियेवा प्रेसिडेंट एतबायेव की छोटी बेटी हैं। राष्ट्रपति अलमाज़ब्येक और उनकी पत्नी पहले ही इस तस्वीर के लिए अपनी बेटी की आलोचना कर चुके हैं। अलिया पहले भी अपने उदारवादी रवैये के कारण चर्चा में रही हैं। उनके पति रूसी मूल के हैं। शादी के 6 महीने बाद ही अलिया ने एक बच्चे को जन्म दिया था। पारंपरिक तौर पर जहां किर्गिस्तान के बहुसंख्यक लोग मांसाहारी हैं, वहीं अलिया और उनके पति शाकाहारी हैं।

BBC को दिए गए एक इंटरव्यू में अलिया ने इस पूरे मामले पर प्रतिक्रिया करते हुए कहा कि यह विवाद उस तस्वीर के कारण नहीं, बल्कि महिलाओं के शरीर को हद से ज्यादा कामुकता के साथ जोड़े जाने की वजह से हुआ।

अलिया खुद एक कलाकार हैं। वह कहती हैं,

मुझे जो यह शरीर मिला है, वह अश्लील नहीं है। मेरे स्तन का एक स्वाभाविक काम है। मेरे स्तन का काम अपने बच्चे की शारीरिक जरूरत पूरी करना, उसकी भूख मिटाना है। इसे कामुकता से नहीं जोड़ा जाना चाहिए।' अलिया आगे कहती हैं, 'जब मैं अपने बच्चे को स्तनपान कराती हूं, तब मुझे लगता है कि अपने वश में जो सबसे बेहतर चीज मैं अपने बच्चे को मुहैया करा सकती हूं, उसे मैं वही चीज दे रही हूं। अपने बच्चे का ध्यान रखना और उसकी जरूरतों को पूरा करना मेरे लिए सबसे ज्यादा जरूरी है। लोग क्या कहते हैं, यह मेरे लिए इतना मायने नहीं रखता है।

 

अलिया ने कहा,

मेरे माता-पिता को मेरी यह तस्वीर बिल्कुल पसंद नहीं आई। मैं उनकी मनोस्थिति समझ सकती हूं। युवा पीढ़ी अपने माता-पिता की तुलना में कम कट्टरपंथी है। मेरी मां को उनकी दोस्तों ने मेरी इस तस्वीर के बारे में बताया था।

 

सार्वजनिक तौर पर स्तनपान का मुद्दा पूरी दुनिया में बहस का विषय है। ऑस्ट्रेलिया की एक महिला सांसद ने संसद की कार्यवाही के दौरान अपने बच्चे को स्तनपान कराया और इसके कारण उनकी काफी तारीफ भी हुई। ब्रिटेन में स्तनपान करा रही महिला को सार्वजनिक स्थान से दूर जाने को कहना गैरकानूनी है।


कमेंट करें