नेशनल

ऐसे होगा न्यू इंडिया का निर्माण? बच्ची 'भात-भात' कहते हुए भूख से तड़प कर मर गई

अमितेष युवराज सिंह | न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
1774
| अक्टूबर 17 , 2017 , 17:27 IST

क्या अभी भी देश में किसी की मौत से भूख से हो सकती है? झारखंड में ऐसी ही एक मौत का मामला सामने आया है। झारखंड के सिमडेगा में 11 साल की एक बच्ची की भूख से तड़प कर मौत हो गई है। एक एक्टिविस्ट ने दावा किया है कि राशन कार्ड का आधार से लिंक न होने की वजह से उसके परिवार को सरकारी लाभ नहीं मिल पाया जिस वजह से बच्ची की मौत हो गई।

संतोषी कुमारी नाम की बच्ची की मौत चार दिनों तक भूखे रहने के बाद 28 सितंबर को हो गई थी। यह जानकारी बच्ची की मां कोयली देवी ने सामाजिक कार्यकर्ताओं को दी। खबर के मुताबिक परिवार को फरवरी महीने से ही किसी तरह का राशन नहीं मिल पाया था। गांव वालों की मदद से मिले कुछ खाने और स्कूल में मिले मिड-डे मील की बदौलत परिवार घरवालों का पेट भर रहा था।

Starving_girl_death_img_16_10_2017

मां कोयली देवी ने मीडिया को बताया कि मैं उसके लिए खाना लाने गई लेकिन मुझे राशन नहीं मिला। 'मेरी बेटी भात-भात की मांग करते हुए भूख से तड़प कर मर गई'।

20 सितंबर को शुरू हुए दशहरा की छुट्टियों के दौरान संतोषी को मिड-डे मील का खाना नहीं मिल पाया। घर पर बचा खाना कुछ ही दिनों में खत्म हो गया। 27 सितंबर को संतोषी ने अपने घर वालों को पेट में भयानक दर्द की शिकायत की। इसके 24 घंटे बाद संतोषी की मौत हो गई।

Img-20171017-wa0237_15082

एक एक्टिविस्ट का कहना है कि परिवार के पास आधार कार्ड उपलब्ध था लेकिन तकनीकी समस्या की वजह से आधार कार्ड को राशन कार्ड से नहीं जोड़ा जा सका था। ब्लॉक डेवलपमेंट ऑफिसर संजय कुमार कोंगारी ने इस बात की पुष्टि की है कि परिवार का नाम आधार कार्ड न जुड़ने की वजह से राशन लाभकर्ताओं की सूची से हटा दिया गया था। जानकारी के मुताबिक मृत बच्ची संतोषी के पिता बेरोजगार हैं। मां और बड़ी बहन दातुन बेच कर हफ्ते भर के 80 रुपये की कमाई करती है। इसके अलावा गांव के लोग जानवरों को चराने के बदले उन्हें चावल दे दिया करते थे।

12sim15

आपको बता दें कि झारखंड जो कि देश के सबसे गरीब राज्यों में से एक है वहां गरीब परिवारों को प्रत्येक राशन कार्ड के बदले 35 किलोग्राम चावल देने का प्रावधान है। इस मामले पर झारखंड के खाद्य आपूर्ति मंत्री ने कहा कि ऐसे साफ निर्देश दिए गए हैं कि जिन लोगों के राशन कार्ड आधार कार्ड से नहीं जुड़े हुए हैं उन्हें भी राशन मिलना चाहिए। इस मामले की छानबीन की जा रही है।


कमेंट करें