राजनीति

पश्चिम बंगाल: हिंसा में 2 और लोगों की मौत, ममता बनर्जी ने दिए जांच के आदेश

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
1770
| मार्च 27 , 2018 , 15:06 IST

पश्चिम बंगाल में रामनवमी जुलूस के हिंसा में हुई हिंसा को लेकर मुख्यमंत्री ममता बनर्जी सख्त रुख अख्तियार किया है। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने पुलिस से जुलूस निकालने की अनुमति रद्द करने को कहा है और ऐसा करने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई का निर्देश दिया है।

बता दें कि पश्चिम बंगाल में राम नवमी के जुलूस को लेकर हुई हिंसा में सोमवार को 2 लोगों की मौत हो गई। प्रशासन की तरफ से शांति बहाल करने की कोशिशों के बीच कुछ पुलिसकर्मी समेत अन्य घायल हो गए हैं।

_9f345266-2d9d-11e8-a965-f54d0b6b9edf

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा, 'क्या राम रावण से तलवार से लड़े थे? मायने नहीं रखता कि हिंसा का शिकार हिंदू हो रहा है या मुसलमान। पीड़ित मेरे लिए केवल इंसान है। इन लोगों को दूसरे समुदाय के इलाके में घुसकर तलवार लहराकर डर पैदा करने का कोई अधिकार नहीं है। ये राम की छवि को धूमिल करने का काम कर रहे हैं।'

उन्होंने कहा, 'यह हमारी संस्कृति के खिलाफ है।' ममता ने बिना किसी पार्टी का नाम लेते हुए कहा कि ये लोग देश में एक धर्म को ही प्रमुखता देना चाहते हैं।

राज्य के डीजीपी सुरजीत पुरकायस्थ ने बनर्जी को सूचना दी कि विडियो क्लिप्स और अन्य सबूतों के आधार पर पता लगाया जा रहा है कि ये खतरनाक हथियारों के साथ रैली निकालने वाले लोग कौन थे। आर्म्स ऐक्ट के तहत उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

रविवार को पुरुलिया में एक शख्स की मौत हुई थी। इसके बाद सोमवार को रानीगंज और काकीनारा में हिंसा में दो लोगों की मौत हो गई। ममता बनर्जी ने कहा, 'आज से कोई जुलूस नहीं। अब जुलूस निकालने की अनुमति नहीं मिलेगी।' उन्होंने धर्म की राजनीति पर कहा, 'क्या राम कभी कहते थे कि उनके मानने वाले पिस्तौल रखें?'

इसे भी पढ़ें-: कांग्रेस ने गूगल प्ले स्टोर से हटाया अपना ऐप, बताई ये वजह

मुख्यमंत्री ने सभी पुलिस अधिकारियों को मीटिंग में उपस्थित रहने के बाद अपने-अपने इलाकों में तैनात रहने के निर्देश दिए। पश्चिम बंगाल बाल अधिकार रक्षा आयोग ने पुरुलिया के दो बजरंग दल के कार्यकर्ताओं को समन किया है। आरोप है कि उन्होंने बच्चों को हथियार थमाकर जुलूस में शामिल किया था।


कमेंट करें