नेशनल

2जी मामला: कब क्या हुआ केस में जानिये मामले की ABCD...

| 0
339
| दिसंबर 21 , 2017 , 13:44 IST

2जी स्पेक्ट्रम मामले में सीबीआई की विशेष अदालत ने गुरूवार को अपना फैसला सुनाते हुए ए राजा समेत सभी आरोपियों को बरी कर दिया। इस मामले में पूर्व दूरसंचार मंत्री ए राजा और डीएमके की नेता कनिमोझी सहित कई हाई प्रोफाइल उद्योगपतियों भी आरोपी थे। मामले में बरी किये गए अन्य लोगों में दूरसंचार विभाग के पूर्व सचिव सिद्धार्थ बेहुरा, राजा के पूर्व निजी सचिव आर. के. चंदोलिया, स्वान टेलीकॉम के प्रोमोटर्स शाहिद उस्मान बलवा और विनोद गोयनका, यूनिटेक लिमिटेड के प्रबंध निदेशक संजय चन्द्रा और रिलायंस अनिल धीरूभाई अंबानी समूह (आरएडीएजी) के तीन शीर्ष कार्यकारी अधिकारी गौतम दोशी, सुरेन्द्र पिपारा और हरी नायर शामिल है।

A

2जी स्पेक्ट्रम आवंटन मामले का घटनाक्रम:

• मई 2007 में ए. राजा यूपीए सरकार में टेलीकॉम मिनिस्टर बने

• अगस्त 2007 में 2 जी स्पैक्ट्रम के लाइसेंस देने शुरू किए

• 2 नवंबर 2007 को तत्कालीन पीएम मनमोहन सिंह ने ए राजा को चिट्ठी लिखी

• मनमोहन सिंह ने आवंटन में पारदर्शिता बरतने और फीस रिव्यू करने के लिए कहा

• 22 नवंबर 2007 को वित्त मंत्रालय ने भी लाइसेंस प्रक्रिया पर सवाल उठाए

• 10 जनवरी, 2008 को 'पहले आओ- पहले पाओ' की नीति अपनाई

• लाइसेंस के लिए कट-ऑफ की तारीख 25 सितंबर तक के लिए बढ़ा दी गई

• 4 मई, 2009 को एनजीओ ने सीवीसी से अनियमितता की शिकायत की

• 21 अक्टूबर, 2009 को CBI ने टेलीकॉम विभाग के अज्ञात अफसरों पर FIR किया

• 10 नवंबर, 2010 को CAG ने कहा 1.76 लाख करोड़ रुपए का नुकसान हुआ

• नवंबर 2010 में ए राजा ने कैबिनेट से इस्तीफा दे दिया

• 17 फरवरी, 2011 को डी राजा को गिरफ्तार किया गया

• 14 मार्च, 2011 को दिल्ली हाई कोर्ट ने विशेष अदालत का गठन किया

• 2 अप्रैल, 2011 को सीबीआई ने 2G मामले में चार्जशीट दाखिल की

• 25 अप्रैल, 2011 को CBI ने दूसरी चार्जशीट दाखिल की

• CBI की दूसरी चार्जशीट में डीएमके नेता कनीमोझी का भी नाम शामिल था

Kani

• 11 नवंबर, 2011 को विशेष अदालत में इस मामले की सुनवाई शुरू हुई

• 12 दिसंबर, 2011 को सीबीआई ने तीसरी चार्जशीट दाखिल की

• 2 फरवरी, 2012 को सुप्रीम कोर्ट ने 2जी लाइसेंस रद्द कर दिए

• 19 अप्रैल, 2017 को इस केस की सुनवाई खत्म हुई

• आज यानी 21 दिसम्बर 2017 को दिल्ली के पटियाला हाउस कोर्ट ने ए. राजा और कनिमोझी सहित सभी आरोपियों को बरी कर दिया गया


author

कमेंट करें