नेशनल

Exclusive: 2जी केस के फैसले में जज ओपी सैनी ने कहा- घोटाला हुआ ही नहीं!

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
992
| दिसंबर 21 , 2017 , 21:12 IST

2जी स्पेक्ट्रम केस में सभी आरोपी बरी हो चुके हैं। सीबीआई की स्पेशल कोर्ट ने पूर्व मंत्री ए राजा, सांसद कनिमोझी समेत सभी आरोपियों को बरी कर दिया है। कोर्ट ने कहा कि किसी के खिलाफ किसी तरह का कोई सबूत नहीं मिला। आपको बता दें कि पूर्व सीएजी विनोद राय ने अपनी रिपोर्ट में कहा था देश को 1 लाख 76 हजार करोड़ रुपये की हानि हुई है। वहीं सीबीआई कोर्ट के जज ओपी सैनी से सभी आरोपियों को निर्दोष पाया।

जज ओपी सैनी ने अपने फैसले में कहा कि इस मामले में किसी तरह का घोटाला ही नहीं हुआ। 1552 पेज के अपने फैसले में जज सैनी ने कहा कि मीडिया ने इसे घोटाले की तरह पेश किया। अपने फैसले के आइटम नंबर 1814 में जज ओपी सैनी ने कहा कि सभी के द्वारा इसे बड़े घोटाले के रूप में देखा गया लेकिन वास्तविक में ऐसा कुछ था ही नहीं।

2g Taxt

फैसले में जज ओपी सैनी ने कहा, पिछले सात सालों से...सभी काम के दिनों में, गर्मी की छुट्टियों में भी, अदालत में सुबह 10 से 5 बजे बैठकर रोजाना मैं यह इंतजार करता था कि कोई 2जी मामले में सबूत लेकर आएगा, लेकिन सब व्यर्थ। एक भी सबूत नहीं आया। इस मामले में हर चीज सिर्फ लोगों की अवधारणा पर चल रही थी। सब कुछ गॉसिप, अफवाह और अनुमान के आधार पर हो रहा था। जबकि जनता की अवधारणा का अदालत में कोई मतलब नहीं होता है, यहां सबूत चाहिए।

जज ओपी सैनी का पूरा फैसला पढ़ें:

Click here to read the full judgment in the CBI vs A. Raja case

जस्टिस ओपी सैनी ने अपने निर्णय में सीबीआई द्वारा फाइल की गई चार्जशीट पर भी सवाल उठाए हैं। सैनी ने कहा कि चार्जशीट में कही गई बातें गलत थीं। सीबीआई की चार्जशीट में कई गलत तथ्यों को पेश किया गया, जिसमें वित्त सचिव द्वारा आवंटन के लिए टेलीकॉम कंपनियों की एंट्री फीस में संशोधन की सिफारिश करना भी शामिल है। सीबीआई द्वारा पेश चार्जशीट का आधार गलत ढंग से दस्तावेजों को पढ़ने और कुछ दस्तावेजों को न पढ़ने का नतीजा है।

ओपी सैनी ने अपने फैसले में ये भी कहा कि कोर्ट में अभियोजन पक्ष बेहद कमजोर दलीलें पेश कर रहा था और मामले में सुनवाई पूरी होते तक कोर्ट में यह साफ हो गया कि अभियोजन पक्ष पूरी तरह दिशाहीन हो गया। ए राजा पर लगे आरोपों को साबित करने के लिए सीबीआई की तरफ से कोई सुबूत नहीं रखा गया न ही कलाईगनार टीवी को 200 करोड़ रुपये के ट्रांसफर को गलत साबित किया जा सका।


कमेंट करें