नेशनल

नहीं थम रहा मौत का सिलसिला, अब वेंटीवेटर की कमी ने नासिक में 55 मासूमों की गई जान

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
252
| सितंबर 9 , 2017 , 15:41 IST

गोरखपुर के बी आर डी मेडिकल कॉलेज में मासूम बच्चों की मौत के बाद नासिक के सिविल अस्पताल के विशेष शिशु देखभाल खंड में भी कई बच्चों की मौत की खबर सामने आई हैं। नासिक के सिविल अस्पताल में पिछले महीने 55 शिशुओं की मौत हो गई। महाराष्ट्र के नासिक जिला अस्पताल में पिछले 6 महीने में वेंटिलेटर की कमी के चलते 241 बच्चों की मौत की खबर है। इसमें सबसे ज्यादा अगस्त के महीने में 55 नवजातों की जान जाने की बात सामने आई है।

प्रशासन के मुताबिक़ किसी भी बच्चे की मौत चिकित्सकीय लापरवाही के कारण नहीं हुई हैं। बच्चों की मौत के बाद राज्य के स्वास्थ्य मंत्री दीपक सावंत ने सिविल सर्जन सुदेश जगदले को बुलाकर इस घटना के बारे में जानकारी ली। अस्पताल के डॉक्टर डॉ जे एम होले ने बताया कि बच्चों की मौत के पीछे वेंटिलेटर्स की कमी नहीं हैं। बता दे कि इस अस्पताल में 18 इन्क्यूबेटर्स हैं जबकि दिनभर में लगभग 50 ऐसे बच्चों के केस आते हैं।

इसके चलते एक ही इन्क्यूबेटर में 2 या तीन बच्चों को रखना पड़ता है। अस्पताल के डॉक्टर जगदले ने यह माना कि कम इन्क्यूबेटर होने की वजह से अस्पताल में मौतें होती हैं। इसी के साथ कम वजन होने के कारण भी कई बच्चों की मौते होती हैं। अस्पताल के डॉक्टर जगदले के अनुसार अगस्त में मरने वाले 55 बच्चों में 2 बच्चों  का वजन आधा किलो से भी काम था। उनके मुताबिक ऐसे बच्चों को बचाना एक बड़ी  चुनौती है।


कमेंट करें