नेशनल

आधार मामला: सरकार बोली- पत्रकार पर नहीं दर्ज हुई है FIR, हम प्रेस की आजादी के साथ

icon अमितेष युवराज सिंह | 0
978
| जनवरी 8 , 2018 , 19:19 IST

आधार डाटा लीक का खुलासा करने वाली पत्रकार पर हुई एफआईआर की लोगों ने जमकर आलोचना की। जिसके बाद केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने सोमवार को ट्वीट कर कहा कि सरकार प्रेस की स्वतंत्रता के लिए पूरी तरह प्रतिबद्ध है और साथ ही भारत के विकास के लिए ‘आधार’ की सुरक्षा व पवित्रता बनाए रखने के लिए भी प्रतिबद्ध है।

कानून मंत्री ने कहा, “एफआईआर अज्ञात (लोगों) के खिलाफ किया गया है। मैंने यूआईडीएआई को सलाह दिया है कि वह ट्रिब्यून और इसके पत्रकार को वास्तविक अपराधी को पकड़वाने के लिए सभी सहायता देने का आग्रह करे।”

रविशंकर प्रसाद के ट्वीट को कोट करते हुए यूआईडीएआई (यूनीक आईडेंटिफिकेशन अथॉरिटी ऑफ इंडिया) ने भी अब ट्वीट कर पूरे मामले पर सफाई दी है। UIDAI ने अपने आधिकारिक हैंडल से ट्वीट किया, 'UIDAI प्रेस की आजादी के लिए प्रतिबद्ध है।

हम अखबार और खबर लिखने वाली पत्रकार से बात करेंगे, जिससे असली दोषियों तक पहुंचा जा सके। इसके साथ ही अगर अखबार और उनके पत्रकार के पास कोई सुझाव हो तो वे हमारे साथ साझा कर सकते हैं।'

प्रेस क्लब और पत्रकार संगठनों ने रविवार को एफआईआर को ‘प्रेस की स्वतंत्रता पर सीधा हमला बताया’ और इस मामले को तत्काल वापस लिए जाने की मांग की।

ट्रिब्यून अखबार ने 3 जनवरी को एक न्यूज रिपोर्ट प्रकाशित की थी जिसमें आधार डाटा की जानकारी आसानी से उपलब्ध होने के बारे में बताया गया था। यूआईडीएआई ने अखबार और रिपोर्टर रचना खरा के खिलाफ एफआईआर दर्ज की थी।

यूआईडीएआई ने 4 जनवरी को कहा था कि शिकायत निवारण के लिए इसकी सर्च सुविधा का ‘गलत इस्तेमाल’ किया गया होगा लेकिन कोई आधार डाटा लीक नहीं हुआ है।


author
अमितेष युवराज सिंह

लेखक न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया में असिस्टेंट एग्जीक्यूटिव एडिटर हैं

कमेंट करें