नेशनल

4 साल बाद जेल से रिहा हुए राजेश और नूपुर तलवार,हाईकोर्ट ने दोनों को किया था बरी

| 0
373
| अक्टूबर 16 , 2017 , 17:29 IST

आरुषि और हेमराज हत्याकांड के मामले में करीब चार साल जेल की सजा काट चुके आरुषि के माता-पिता डॉ. राजेश और नूपुर तलवार आज जेल से रिहा हो गए। हाईकोर्ट के आदेश की कॉपी पहुंचने के बाद सीबीआई कोर्ट ने रिहाई का आदेश जारी किया। हालांकि राजेश और नुपुर तलवार हर 15 दिनों के अंतर में गाजियाबाद की डासना जेल जाकर उन मरीजों को देखेंगे जो दांत की समस्या से पीड़ित हैं। इलाहाबाद हाईकोर्ट ने सीबीआई कोर्ट के फैसले को खारिज करते हुए तलवार दंपति को आरुषि-हेमराज मर्डर केस से बरी कर दिया था। सीबीआई कोर्ट ने उन्हें दोषी मानते हुए उम्रकैद की सजा सुनाई थी।

समय पर जेल नहीं पहुंची कोर्ट के फैसले की कॉपी

गुरुवार, 12 अक्टूबर को ही हाई कोर्ट द्वारा बरी किए जाने के बाद भी तलवार दंपति की रिहाई नहीं हो पाई क्योंकि समय से जेल प्रशासन को फैसले की कॉपी नहीं मिली थी। शनिवार और रविवार को छुट्टी रही और अब पूरी संभावना है कि दोनों की रिहाई सोमवार, 16 अक्टूबर को हो जाएगी।

रिहा होने के बाद भी कैदियों का इलाज करेंगे तलवार दंपति

जेल से रिहा होने के बाद भी तलवार दंपति अन्य कैदियों के इलाज के लिए हर 15 दिन बाद डासना जेल जाते रहेंगे। जेल प्रशासन ने ही उनसे गुजारिश की थी, वे कैदियों के दांत के इलाज के लिए आया करें। तलवार दंपति ने जेल के अंदर डेंटल क्लिनिक का पूरा सेटअप बनाया हुआ है। उन्होंने ही वहां कई तरह के उपकरण उपलब्ध कराए। वे दोनों नियमित तौर पर जेल में बंद अन्य कैदियों के दांतों का इलाज किया करते थे। इसके एवज में तलवार दंपति को रोजाना 40 रुपये मिलता था, जिसे उन्होंने अभी तक नहीं लिया है।

सीबीआई कोर्ट ने सुनाई थी आजीवन कारावास की सजा

बताते चलें कि फैसला सुनाते हुए हाई कोर्ट ने सीबीआई की जांच में कई खामियों का जिक्र किया। कोर्ट ने कहा कि कई सबूतों की ना तो पड़ताल की गई और ना ही साक्ष्यों को वेरिफाई करने की कोशिश की गई। विशेष सीबीआई कोर्ट ने आरुषि और हेमराज की हत्या के मामले में तलवार दंपति को 26 नवंबर, 2013 को आजीवन कारावास की सजा सुनाई थी। हाई कोर्ट ने कहा कि परिस्थितियों और रिकार्ड में दर्ज साक्ष्यों के मुताबिक तलवार दंपति को दोषी नहीं ठहराया जा सकता।


author

कमेंट करें