राजनीति

अगस्ता-वेस्टलैंड: BJP का हमला- 10 जनपथ के कहने पर कांग्रेस कर रही है मिशेल का बचाव

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
1557
| दिसंबर 6 , 2018 , 14:32 IST

अगस्ता-वेस्टलैंड मामले पर भारतीय जनता पार्टी ने गुरुवार को कांग्रेस पर जमकर हमला बोला। बीजेपी के प्रवक्ता संबित पात्रा ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा कि अगस्ता-वेस्टलैंड के बिचौलिए मिशेल के भारत में लैंड करते ही कांग्रेस के सारे वकील बचाने में लग गए। करीब 3600 करोड़ के VVIP चॉपर घोटाले को लेकर बीजेपी ने कांग्रेस पर हमला बोलते हुए कहा कि मिशेल के भारत आने कांग्रेस की नींद उड़ गई है। कांग्रेस के सारे वकील उसे बचाने में लग गए हैं। बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा ने कहा कि क्रिश्चियन मिशेल मामले से जुड़े एक वकील को पार्टी से बाहर करना, कांग्रेस का महज एक ड्रामा है। जोसफ को 'किसी' ने केस लड़ने को कहा. आखिर यह 'किसी' कौन है? 10 जनपथ के कहने पर मिशेल को बचाने की कोशिश की जा रही है।

बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा ने कहा कि क्रिश्चयन मिशेल ने अपनी चिट्ठी में लिखा था कि 42 मिलियन डॉलर मिला है लेकिन यह पूरा नहीं पड़ता है। क्योंकि 28 मिलियन यूरो तो सिर्फ एक फैमिली को देना है। इसलिए पूरे कांट्रेक्ट का 5 फीसदी हमें इस परिवार को देना है। यहां एक परिवार है जो किसी भी कीमत पर क्रिश्चियन मिशेल को बचाना चाहती है। राम मंदिर में जब कपिल सिब्बल केस लड़ रहे थे तो उन्हें केस से हटा दिया गया, मगर पार्टी से नहीं निकाला गया, लेकिन कांग्रेस के लोग जब मिशेल का केस लड़ रहे हैं तो पार्टी से क्यों निकाला जा रहा है।

उन्होंने कहा कि 10 जनपथ इस मामले में अपने लोगों को मिशेल के टच में रखना चाहती है। मिशेल के प्रत्यार्पण के बाद से ही कांग्रेस पार्टी घबराई हुई है। यही वजह है कि वह अपनी टीम को मिशेल को बचाने के लिए भेज रही हैं।

बता दें कि दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट ने 3600 करोड़ रूपये के अगस्ता वेस्टलैंड वीवीआईपी हेलिकॉप्टर सौदे के कथित बिचौलिये क्रिश्चियन मिशेल जेम्स को बुधवार को पूछताछ के लिए पांच दिन की सीबीआई हिरासत में भेज दिया। सीबीआई ने उसे विशेष अदालत में पेश किया। दुबई से उसके आगमन पर मंगलवार की रात उसे गिरफ्तार किया गया था। सीबीआई ने साक्ष्य के साथ आमना-सामना कराने के लिए मिशेल को हिरासत में लेकर पूछताछ करने की अनुमति देने की मांग की। सीबीआई ने कहा कि वह घोटाले की रकम के प्रवाह का भी पता लगाना चाहती है।

दरअसल, सीबीआई का आरोप है कि सौदे में अनुमानित तौर पर 39.82 करोड़ यूरो (तकरीबन 2,666 करोड़ रुपये) का नुकसान हुआ। कुल 55.62 करोड़ यूरो में वीवीआईपी हेलिकॉप्टरों की आपूर्ति के लिए आठ फरवरी 2010 को समझौता हुआ था। प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने जून 2016 में मिशेल के खिलाफ अपने आरोपपत्र में आरोप लगाया था कि उसे अगस्ता वेस्टलैंड से कथित तौर पर तीन करोड़ यूरो (करीब 225 करोड़ रूपये) मिले थे। भारत ने इस सौदे को हासिल करने के लिये 423 करोड़ रूपए की दलाली के भुगतान का आरोप लगने के बाद एक जनवरी, 2014 को भारतीय वायु सेना के लिये 12 अगस्ता वेस्टलैंड हेलीकाप्टर खरीदने का करार रद्द कर दिया था। केन्द्रीय जांच ब्यूरो ने इस मामले में एक सितंबर, 2017 को आरोप पत्र दाखिल किया था जिसमे मिशेल भी आरोपी के रूप में नामित है।


कमेंट करें