खेल

मोइन अली का खुलासा- ऑस्ट्रेलिया टीम के खिलाड़ी ने मुझे कहा था 'ओसामा'

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
1474
| सितंबर 15 , 2018 , 13:45 IST

इंग्लैंड क्रिकेट टीम के हरफनमौला खिलाड़ी मोइन अली का कहना है कि वर्ष 2015 में हुए एशेज सीरीज के दौरान आस्ट्रेलिया के एक खिलाड़ी ने उन्हें 'ओसामा' कहकर बुलाया। अली ने दावा किया कि कार्डिफ में हुए सीरीज के पहले टेस्ट मैच में उनके खिलाफ अपमानजनक टिप्पणी की जिससे वह बहुत परेशान हुए। अली ने उस मैच में शानदार प्रदर्शन करते हुए पहली पारी में 77 रन बनाए और पांच विकेट लेकर मेजबान टीम को 169 रनों से जीत दिलाई। 

1

'क्रिकइंफो' ने अली के हवाले से बताया, "व्यक्तिगत प्रदर्शन के आधार पर मेरे लिए वह एशेज सीरीज शानदार रही। एक घटना हालांकि, ऐसी हुई जिसने मेरा ध्यान भटकाया। मैच के दौरान मैदान पर एक आस्ट्रेलियाई खिलाड़ी मेरी तरफ मुड़ा और बोला 'टेक दैट ओसामा'। मैंने जो सुना उस पर मुझे यकीन नहीं हुआ, मैं गुस्से से लाल हो गया। इससे पहले मुझे मैदान पर इतना गुस्सा कभी नहीं आया।"

अली ने कहा, "मैंने अपनी टीम के कई साथियों को बताया और मैं समझता हूं कि कोच ट्रेवर बेलिस ने आस्ट्रेलियाई समकक्ष डरेन लेहमन के सामने यह मुद्दा उठाया होगा। लेहमन ने आस्ट्रेलियाई खिलाड़ी से जब इस बारे में पूछा तो उसने यह कहते हुए मना कर दिया कि उसने मुझे 'टेक दैट पार्ट-टाइमर' कहकर बुलाया। मुझे यह सुनकर अचंभा हुआ लेकिन आपको खिलाड़ी की बात माननी होती है लेकिन मैं पूरे मैच के दौरान गुस्से में था।"

इंग्लैंड ने 2015 एशेज सीरीज को 3-2 से जीता था।

इंग्लैंड के हरफनमौला खिलाड़ी मोइन अली ने मौजूदा आस्ट्रेलियाई टीम को 'असभ्य' बताते हुए कहा है कि वह इकलौती टीम है जो उन्हें पसंद नहीं है। अली ने यह धारणा 2017-18 एशेज सीरीज और पिछले तीन वर्षो में किए गए दौरों के बाद बनाई है।

मोइन ने 'द टाइम्स' में मिकी एथरटन को दिए इंटरव्यू में कहा है, "आप किसी से भी बात करेंगे.. वह यही कहेंगे कि मैं जितनी भी टीमों के साथ खेला हूं उनमें से आस्ट्रेलिया मुझे बिल्कुल भी पसंद नहीं है।" उन्होंने कहा, "इसलिए नहीं है कि वो आस्ट्रेलिया है और हमारा पुराना दुश्मन है, लेकिन जिस तरह से वो खिलाड़ियों और लोगों का सम्मान नहीं करते हैं और बुरा व्यवहार करते हैं इसके कारण मुझे वो बिल्कुल पसंद नहीं हैं।"

इस हरफनमौला खिलाड़ी ने कहा, "2015 विश्व कप से पहले मैंने जो पहला मैच उनके खिलाफ खेला था। उस मैच में वो सिर्फ परेशान नहीं कर रहे थे बल्कि गालियां दे रहे थे। वो पहली बार था जब मुझे बुरा लगा। मैंने हालांकि कोई धारणा नहीं बनाई, लेकिन मैं जितना उनके खिलाफ खेला वह बुरे साबित हुए। एशेज 2015 में को वो टीम बेहद ही बुरी निकली।"

अली ने हालांकि माना है कि आस्ट्रेलिया के खिलाड़ी व्यक्तिगत तौर पर अच्छे इंसान हैं, लेकिन टीम के तौर पर वह अलग होते हैं। अली ने कहा, "निजी तौर पर वह शानदार है। वार्सेस्टर में जो आस्ट्रेलियाई खिलाड़ी हैं वो शानदार है। बेहतरीन इंसान हैं।"


कमेंट करें