नेशनल

ड्रग्स के खिलाफ अमरिंदर सिंह का एक और बड़ा फैसला, सरकारी नियुक्ति में किया डोप टेस्ट जरूरी

दीपक गुप्ता, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
1849
| जुलाई 4 , 2018 , 21:09 IST

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने ड्रग्स के खिलाफ मुहिम तेज करते हुए एक और बड़ा कदम उठाया है। मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने सभी सरकारी कर्मचारियों की नियुक्ति के लिए डोप टेस्ट को अनिवार्य कर दिया है। इस टेस्ट में पुलिसकर्मी भी शामिल होंगे। डोप टेस्ट ना सिर्फ नई भर्तियों के दौरान बल्कि हर साल होने वाले प्रमोशन और एनुअल रिपोर्ट तैयार किए जाने के दौरान भी सभी सरकारी कर्मचारियों का किया जाएगा।

 

मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर ने राज्य के मुख्य सचिव को इस मामले में काम करने और आवश्यक अधिसूचना जारी करने का निर्देश दिया है।

इस संबंध में कैप्‍टन अमरिंदर सिंह ने केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह को भी एक खत लिखा है। जिसमें ड्रग माफियाओं को फांसी की सजा देने के लिए मंजूरी मांगी है।

 

आपको बता दें कि बीते 2 जुलाई को ही कैप्‍टन अमरिंदर सिंह की अगुवाई में हुई पंजाब कैबिनेट की बैठक में ड्रग्‍स की तस्‍करी और पैडलिंग करने वालों को मौत की सजा देने का प्रावधान किया गया है। इसके लिए पंजाब सरकार की ओर से केंद्र सरकार को औपचारिक प्रस्ताव भेज दिया गया है।

मुख्‍यमंत्री कैप्‍टन अमरिंदर सिंह ने कुछ दिन पहले ही दावा किया था कि पंजाब में ड्रग्‍स सप्‍लाई करने वाले सबसे बड़े तस्‍कर का पता लगा लिया गया है। उस समय दावा किया गया था कि ड्रग्‍स तस्‍कर इस समय हांगकांग की जेल में बंद है और वहीं से पंजाब में नशा का कारोबार कर रहा है। इसी कड़ी में अब पंजाब सरकार ने ये फैसला किया है कि ड्रग्‍स की स्‍मगलिंग और पैडलिंग करने वालों के खिलाफ पंजाब सरकार डेथ पेनल्‍टी का प्रावधान करेगी।

आपको बता दें कि पंजाब दशकों से नशे का शिकार है। राज्य के युवा बुरी तरह से जकड़े हुए हैं। नशे के चलते राज्य में बड़ी संख्या में मौत भी हो रही हैं। मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह राज्य से नशे के इस मकड़जाल को खत्म करने के लिए कई कड़े कदम उठाए हैं।


कमेंट करें