राजनीति

मेरठ में महगठबंधन पर बोले अमित शाह- विपक्ष की चिंता मुझ पर छोड़ दें, तीनों मिल जाएं तब भी जीतेंगे'

राजू झा, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
1629
| अगस्त 12 , 2018 , 18:30 IST

2019 लोकसभा चुनावों में सीटों के लिहाज से देश के सबसे बड़े सूबे उत्तर प्रदेश में भाजपा कार्यसमिति के मंथन का आज दूसरा और आखिरी दिन है। बैठक में पहुंचे भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने पार्टी नेताओं को 2014 से एक सीट ज्यादा जीतने का संकल्प दिलाया।

मीटिंग में अमित शाह ने राज्य के पार्टी नेताओं से कहा कि महागठबंधन से घबराने की जरूरत नहीं है। शाह ने उनसे कहा कि आप मोदी और योगी सरकार की योजनाओं को जनता के बीच लेकर जाएं। शाह ने कार्यकर्ताओं से साफ कहा कि विपक्ष से कैसे निपटना है, इसकी चिंता मुझ पर छोड़ दीजिए। शाह ने कहा कि आप मोदी-योगी सरकार की योजनाओं को नीचे तक लेकर जाइए। साथ ही बीजेपी अध्यक्ष ने कहा कि यूपी में महागठबंधन पार्टी के लिए कोई चुनौती नहीं है।

यूपी में बीजेपी की जमीन न दरके, इसके लिए शाह आक्रामक अभियान पर हैं। रविवार को यूपी के शीर्ष नेतृत्व से लेकर जिला स्तर तक के संगठनात्मक प्रमुखों के सामने शाह ने यहां को लेकर उपज रही चिंताओं के समाधान की रूपरेखा रखी। शाह ने कहा, 'लोग पूछते हैं कि एसपी-बीएसपी एक हो गई तो क्या होगा। मैं कहता हूं कि यूपी में एसपी, बीएसपी, कांग्रेस सबको हम एक साथ हरा चुके हैं। जब 2017 में हम चुनाव लड़े थे तो दो लड़कों ने हाथ मिलाया था लेकिन हमने 300 से अधिक सीटें जीती। इस बार तीनों मिल जाएंगे तो भी हम 74 से कम सीटें नहीं जीतेंगे।'

'देश में एक भी घुसपैठिया नहीं रहने देंगे'

अमित शाह ने एनआरसी को लेकर विपक्ष पर हमला जारी रखा। सूत्रों के अनुसार शाह ने कहा, 'हमने बांग्लादेशी घुसपैठियों को लेकर साहस दिखाया तो कांग्रेस ने बखेड़ा शुरू कर दिया। ममता बनर्जी भी हाय-तौबा मचा रही हैं। हमारा साफ कहना है कि हमारे नेता नरेंद्र मोदी ने 56 इंच का सीना दिखाया है और एक भी घुसपैठिए को हम देश में रहने नहीं देंगे।' बीजेपी पर लगे दलित विरोध के आरोपों पर भी शाह ने कार्यकर्ताओं के सामने जवाब की नजीर रखी। उन्होंने कहा, 'केवल जयकार करने से कल्याण नहीं होगा। विपक्ष केवल महापुरुषों का नाम भुनाता रहा लेकिन उज्ज्वला, मुफ्त बिजली, आवास आदि योजनाओं के जरिए दलितों, वंचितों का असली कल्याण मोदी सरकार ने ही किया है।'

'महाभारत में अंतत: अर्जुन की ही विजय'

अमित शाह ने कार्यकर्ताओं को चुनावी महाभारत में डटकर लड़ने के लिए तैयार होने को कहा। उपचुनाव के नतीजों से उपजी चिंताओं को दरकिनार करते हुए शाह ने कहा कि महज 5% का अंतर था। बात जब मोदी को चुनने की आएगी तो हम 51% का लक्ष्य हासिल कर लेंगे। हमारा कार्यकर्ता इतना परिश्रमी है कि गठबंधन उसके आगे टिक नहीं पाएगा। महाभारत की नजीर देते हुए शाह बोले, 'महाभारत में पहले 5-6 दिन नतीजे कुछ भी हों लेकिन 18वें दिन जीतना अर्जुन को ही है और हमारा हर कार्यकर्ता अर्जुन है। एक और मोदी को आपने प्रधानमंत्री बना दिया तो देश से परिवारवाद का नासूर मिट जाएगा।' समापन सत्र में प्रदेश अध्यक्ष डॉ. महेंद्र नाथ पांडेय ने कार्यसमिति के निष्कर्षों को विस्तार से रखा।

Amit-shah

जरूरत हुई तो यूपी में भी एनआरसी: योगी आदित्यनाथ

असम- बंगाल से उपजा एनआरसी का मसला बीजेपी को यूपी की चुनावी धरातल के लिए भी मुफीद लग रहा है। यही वजह है कि कार्यसमिति के पहले दिन एनआरसी पर एक पूरा सत्र रखा गया, जिसमें पूर्व केंद्रीय मंत्री कलराज मिश्र ने विस्तार से इससे जुड़े उन बिंदुओं को बताया जिसे कार्यकर्ताओं को नीचे लेकर जाना है। राजनाथ और अमित शाह के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस चर्चा को नया रुख दे दिया है। योगी ने कहा है, 'अगर जरूरत हुई तो एनआरसी को यूपी में भी लागू करेंगे। देश एक भी घुसपैठिया स्वीकार नहीं करेगा।'


कमेंट करें