ख़ास रिपोर्ट

73 साल पहले जब हिरोशिमा पर हुआ परमाणु हमला, जमींदोज़ हो गया था पूरा शहर

icon अमितेष युवराज सिंह | 0
2903
| अगस्त 6 , 2018 , 15:48 IST

जंग तो चंद रोज़ होती है ज़िंदगी बरसों तलक रोती है! जापान के हिरोशिमा शहर में 73 साल पहले आज के ही दिन कुछ ऐसा ही हुआ। 6 अगस्त 1945 को सुबह 8 बजकर 15 मिनट पर एक धमाका हुआ। ये धमाका इतना जोरदार था कि पल भर में हिरोशिमा शहर जमींदोज़ हो गया। इस हमले में 80 हजार लोगों की तुरंत मौत हो गई और 35000 के करीब लोग घायल हुए जबकि रेडिएशन और हमले के घावों ने साल खत्म होते-होते 60 हजार और लोगों की जान ले ली।

11_32_419830038b1-ll

आखिर क्यों हिरोशिमा पर गिराया गया था बम

दरअसल दूसरे विश्व युद्ध के दौरान अमेरिका ने जापान के हिरोशिमा पर पहला एटम बम गिराया था। इनोला गे B-29 बॉम्बर विमान से एक ऐसे हमले को अंजाम दिया गया जिसको ना दुनिया ने देखा था और ना कल्पना की थी। अमेरिका ने ये परमाणु बम हमला उस जवाबी कार्रवाई के तहत किया था जब पर्ल हार्बर में जापानी ने जो नुकसान पहुंचाया था उसके जवाब में अमेरिका विश्व युद्ध में कूदा और जापान को सरेंडर करने के लिए कहा, लेकिन जापान के ना कहने पर एक ऐसा हमला हुआ जो इतिहास का अबतक का सबसे खतरनाक हमला है। आज भी इसकी भरपाई हिरोशिमा नहीं कर सका है। इस हमले का असर न जानें कितनी नस्लों पर पड़ा है।

नागासाकी हमला

लेकिन ये विश्व युद्ध यहीं नहीं थमा इस हमले के तीन दिन बाद अमेरिका ने जापान के नागासाकी शहर पर परमाणु बम गिराकर जापान को घुटनों पर ला दिया। इन दों शहरों के अंत से विश्वयुद्ध का तो अंत हो गया लेकिन आज भी दोनों शहरों के लोगों की नस्लों पर इसका प्रभाव नहीं खत्म हो सका है। इस हमले से 2 लाख लोगों पर आज भी रेडिएशन का असर बाकी है और उनसे काफी भेदभाव किया जाता है।

1_2017080917331310_650x

हमले से पहले चेतावनी

यूएस एयरफोर्स के जवानों ने हमले से पहले लोगों को एक चेतावनी जारी करते हुए पर्चे गिराए थे। जिसमें लोगों को शहर को छोड़ने की चेतावनी जारी की गई थी।

जानें उस परमाणू बम की ताकत

हिरोशिमा पर गिराए गए परमाणु बम का नाम लिटल बॉय था। जिसका वजन 9700 पाउंड यानी 4400 किलोग्राम था इसकी लंबाई 10 फुट और व्यास 28इंच था। इस बम के कारण जमीनी स्तर पर लगभग 4,000 डिग्री सेल्सियस तक की गर्मी पैदा हुई थी।

Hiroshima-nagasaki-hindi

तय जगह पर नहीं गिर सका था बम

बम हिरोशिमा के तय जगह पर नहीं गिराया जा सका था, यह हिरोशिमा के आइयो ब्रिज के पास गिरने वाला था मगर उल्टी दिशा में बह रहे हवा के कारण यह अपने लक्ष्य से हटकर शीमा सर्जिकल क्लिनिक पर गिरा


author
अमितेष युवराज सिंह

लेखक न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया में असिस्टेंट एग्जीक्यूटिव एडिटर हैं

कमेंट करें