नेशनल

दिल्ली: मशहूर डॉक्टर पर कातिलाना हमला, बदमाशों ने चलाई 25 राउंड गोलियां

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
1628
| अप्रैल 30 , 2018 , 16:15 IST

दक्षिणी दिल्ली का फतेहपुर बेरी इलाका शनिवार रात उस समय गोलियों की तड़तड़ाहट से गूंज उठा, जब एक फार्म हाउस में डॉक्टर हंस नागर पर बदमाशों ने ताबड़तोड़ फायरिंग कर दी। बचाव में डॉक्टर ने भी अपने लाइसेंसी हथियार से हमलावरों पर फायरिंग की। दोनों ओर से करीब 25 राउंड गोलियां चलीं। फायरिंग में डॉक्टर को चार गोली लगी हैं, जिन्हें देर रात एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां उनकी हालत नाजुक बनी हुई है।

दो भाइयों के साथ चल रहा है प्रॉपर्टी विवाद

वहीं, पुलिस का कहना है कि हमले के पीछे प्रॉपर्टी विवाद हो सकता है। घायल डॉक्टर का अपने दो भाइयों से प्रॉपर्टी को लेकर विवाद चल रहा था। घायल ने भी भाइयों द्वारा ही बदमाशों से उन पर हमला कराने का शक जताया है। वहीं, आशंका जताई जा रही है कि डॉक्टर की गोली से हमलावरों में से भी घायल हो गया, जिसे वे अपने साथ ले गए। हालांकि, अभी तक इसकी पुष्टि नहीं हो पाई है। पुलिस मामला दर्ज करके जांच कर रही है। घटना से इलाके के लोगों में भी दहशत है।

पुलिस के मुताबिक, फतेहपुर बेरी इलाके के नागर एस्टेट गदईपुर क्षेत्र स्थित फार्म हाउस में 70 वर्षीय डॉक्टर हंस नागर परिवार के साथ रहते हैं। उनके परिवार में चार बेटियां और एक बेटा है। डॉक्टर हंस नागर ऑर्थोपेडिक स्पेशलिस्ट हैं। शनिवार रात वह गार्गी कॉलेज के पास स्थित एक निजी अस्पताल से घर लौट रहे थे। नागर एस्टेट गेट नंबर-दो से प्रवेश करने के बाद जब उनकी कार कुछ दूर पहुंची तभी तीन-चार हमलावरों ने सामने आकर कार रुकवा ली। डॉक्टर कुछ समझ पाते, इससे पहले ही बदमाशों ने उन पर ताबड़तोड़ फायरिंग शुरू कर दी।

फायरिंग शुरू होते ही डॉक्टर ने गाड़ी में छिपकर अपना लाइसेंसी हथियार निकाल लिया और ड्राइविंग सीट वाली खिड़की की तरफ से उन्होंने भी बदमाशों पर कई राउंड फायरिंग की। इससे हमलावर घबरा गए और भागने लगे। यह देख डॉक्टर ने कार से बाहर निकल कर भी उन पर फायरिंग की। इसी बीच उन्हें चार गोलियां लग गईं।

बेटी ने पहुंचाया अस्पताल

घटनास्थल से फार्म हाउस के मेन गेट की दूरी मात्र पांच मीटर थी, मगर उस वक्त वहां पर कोई सुरक्षाकर्मी मौजूद नहीं था। गंभीर रूप से घायल डॉक्टर खून से लथपथ हालत में वहीं काफी देर तक छिपकर बैठे रहे। इस बीच पीछे से घर आ रही उनकी बेटी ने रास्ते में पिता की कार देखी। नजदीक पहुंची तो उसे पिता दिख गए। उन्हें देखकर वह घबरा गई और उसने शोर मचा दिया। शोर सुनकर आसपास के लोग वहां पहुंचे। बेटी ही पिता को जख्मी हालत में अस्पताल ले गई। वहां उनकी हालत नाजुक बनी हुई है। पुलिस को मामले की जानकारी देर रात एक बजकर 5 मिनट दी गई। इसके बाद मौका-ए-वारदात पर पहुंची पुलिस ने छानबीन कर मौके से फॉरेंसिक साक्ष्य जुटाए। पुलिस को मौके से गोलियों के 22 खोखे मिले हैं। पुलिस आसपास लगे सीसीटीवी कैमरों की फुटेज खंगालने के साथ पास के लोगों से पूछताछ कर रही है।

सेना में ब्रिगेडियर थे पिता

डॉक्टर हंस के पिता सेना में ब्रिगेडियर थे। उन्होंने एक विदेशी महिला से शादी की थी। उनके तीन बच्चे हंस उलरिच,जॉन उलरिच और रोनाल्ड उलरिच हैं। पुलिस के मुताबिक, डॉक्टर हंस का भाइयों जॉन और रोनाल्ड के साथ गुरुग्राम की एक संपत्ति को लेकर विवाद चल रहा था। डॉक्टर हंस को शक है कि उनके भाइयों ने चार लोगों के साथ मिलकर उनकी हत्या की साजिश रची।


कमेंट करें