नेशनल

अयोध्या विवाद: खलीफुल्लाह के नेतृत्व में मध्यस्थता की प्रक्रिया हुई शुरू

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
1719
| मार्च 13 , 2019 , 14:40 IST

सर्वोच्च न्यायालय द्वारा गठित तीन सदस्यीय पैनल ने बाबरी मस्जिद-रामजन्मभूमि विवाद को सुलझाने के लिए बुधवार को अपनी पहली बैठक की है। सर्वोच्च न्यायालय के पूर्व न्यायाधीश जस्टिस एफ.एम.आई. कलीफुल्ला के नेतृत्व वाले इस पैनल में आर्ट ऑफ लिविंग के संस्थापक श्री श्री रविशंकर और वरिष्ठ अधिवक्ता श्रीराम पंचू भी शामिल हैं।

अवध विश्वविद्यालय परिसर में गेस्ट हाउस की ओर जाने वाले मार्ग पर सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं, जहां बैठक हो रही है। विवाद का उल्लेख करते हुए सर्वोच्च अदालत ने आठ मार्च को कहा था कि प्रक्रिया की सफलता सुनिश्चित करने के लिए 'अत्यंत गोपनीयता' बनाई रखी जानी चाहिए और इसे आठ सप्ताह के भीतर पूरा किया जाना चाहिए।

8 मार्च का फैसला:

आपको बता दें कि अयोध्या विवाद में सुप्रीम कोर्ट ने अपना आदेश सुनाते हुए 8 मार्च को कहा था कि इस मसले को मध्यस्थता के द्वारा सुलझाया जाएगा चाहिए। जिसके बाद शीर्ष अदालत ने तीन सदस्यीय पैनल का भी गठन किया था। सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले में कहा कि यह पूरी मध्यस्थता की प्रक्रिया अयोध्या में होगी।

इसके साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि इसकी कोई मीडिया रिपोर्टिंग नहीं होगी। मध्यस्थता की प्रक्रिया एक हफ्ते में शुरू होगी और आठ हफ्ते में मध्यस्थता की प्रक्रिया समाप्त हो जाएगी। इसके बाद कमेटी को रिपोर्ट कोर्ट में सौंपनी होगी।

पैनल:

गौरतलब है कि जस्टिस रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पांच सदस्यीय पीठ ने कहा कि इस मामले का हल मध्यस्थता के जरिए होगा। इसके लिए मध्यस्थता कमेटी का गठन किया गया। कमेटी की अध्यक्षता रिटायर्ड जस्टिस इब्राहिम खलीफुल्लाह करेंगे। इसके अलावा इन कमेटी में श्रीश्री रविशंकर और श्रीराम पंचू शामिल हैं।

मध्यस्थता के लिए सभी पक्षों ने दिए नाम:

हिंदू महासभा मध्यस्थता का विरोध कर रही है। हालांकि, उसकी ओर से सुप्रीम कोर्ट में मध्यस्थता के लिए नाम दिए गए हैं। इनमें पूर्व सीजेआई दीपक मिश्रा, पूर्व सीजेआई जेएस खेहर और सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज एके पटनायक शामिल हैं। वहीं, निर्मोही अखाड़ा की ओर से सुप्रीम कोर्ट के रिटायर्ड जज कुरियन जोसेफ, एके पटनायक और जीएस सिंघवी का नाम दिया है। मुस्लिम पक्षकारों ने भी कोर्ट को नाम दिया है, लेकिन इसका खुलासा नहीं किया है।


कमेंट करें