लाइफस्टाइल

खराब मूड भी हैं फायदेमंद, ये हैं उदासी के चौंकाने वाले फायदे

राजू झा, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
2242
| अगस्त 30 , 2018 , 16:53 IST

सुख और दुख हम सभी की जिंदगी में आते रहते हैं और हमारे जीवन का एक महत्मपूर्ण हिस्सा होते हैं। एक तरफ जहां स्थायी तौर पर उदासी को एक गंभीर बीमारी की तरह देखा जाता है वहीं मूड खराब होना और अस्थायी उदासी आपके लिए फायदेमंद हैं।

मनोविज्ञान की भाषा में इसे हमारे लिए बहुत फायदेमंद बताया गया है। हाल ही में हुई साइंटिफिक रिसर्च की मानें तो खराब मूड्स जो अधिकतर एक अलार्म और सचेत और विस्तृत सोच वाले लाइफस्टाइल को दर्शाता है। वहीं अगर अच्छे मूड की तुलना की जाए तो अच्छे मूड में रहने वाले लोग कम सचेत और किसी भी बात की गहराई में नहीं जाते हैं। इस चीज के कई सबूत हैं जिनसे साबित होता है कि उदासी, नेगेटिव मूड के मनोवैज्ञानिक रुप से बहुत फायदेमंद है। इसके लिए शोधकर्ताओं ने सबसे पहले लोगों का मूड उन्हें खुशी और उदासी वाली फिल्में दिखाकर बदला और इसके बाद उनके व्यवहारिक कार्य देकर उनकी पर्फोमेंस को चेक किया।

375593_wallpaper-girl-sad-mood

क्या है उदासी और खराब मूड

मनोविज्ञान की भाषा में जानें तो हमारी भावनाएं और व्यवहार हमारे मूड्स और इमोशंस को प्रभावित करनी वाली परिस्थितियों से ही विकसित होते हैं। मानवीय इमोशनंस जैसे डर, गुस्सा, शर्मिंदा होना और घृणा सभी जरूरी हैं क्योंकि ये हमें हमें हानि पहुंचानी वाली परिस्थितियों को पहचानना, उन्हें अवाइड करना और उनसे बाहर आना सिखाती हैं।

हालांकि ज्यादा और लंबे समय तक रहने वाली उदासी जैसे डिप्रेशन एक गंभीर डिस्आर्डर है। लेकिन कम और कम समय रहने वाला खराब मूड और उदासी अपके लिए फायदेमंद है और आपको कठिन परिस्थतियों से मुकाबला करना सिखाती हैं। उदासी के कारण सहानुभूत, दया, संयुक्तता, संवेदनशीलता को भी बढ़ती है।

मनोवैज्ञानिक रुप से उदासी के ये हैं चौकाने वाले फायदे

अच्छी याद्दाश्त: एक स्टडी की मानें तो खराब मूड का परिणाम यह होता है कि इससे याद्दाश्त अच्छी रहती है। यही नहीं खराब मूड की वजह से लोगों में व्याकुलता जैसे नकारात्मक प्रभाव भी कम होते हैं।

सटीक निर्णय: खराब मूड की वजह से लोग सही और सटीक निर्ण लेना सीख जाते हैं। खराब मूड के कारण ये लोगों को अच्छे से जानने लगते हैं और उनसे जल्दी प्रबावित नहीं होते हैं। दरअसल खराब मूड के कारण लोगों में विस्तार से सोचने और समझने की क्षमता बढ़ जाती है।

1

प्रेरणात्मक: कई शोधों में पाया गया कि जब खुश और उदास लोगों को कठिन टास्क करने के लिए कहा गया तो मूड खराब वाले लोगों ने बहुत मेहनत की और उन्होंने उस टास्क में बहुत ज्यादा समय लगाया। यही नहीं उन्होंने बहुत सारे सवाल हल करें जिसमें से ज्यादातर सही थे।

अच्छा कम्यूनिकेशन: दरअसल खराब मूड वाले लोग काफी सचेत और गंभीर सोच वाले होते हैं यही वजह है कि इनका कम्यूनिकेशन काफी मजबूत होता है। ये लोग आसानी से लोगों को अपनी बात समझा सकते हैं।


कमेंट करें