खेल

वेंगसरकर का खुलासा: कोहली का समर्थन करने से मेरी चीफ सिलेक्टर की कुर्सी चली गई

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
1206
| मार्च 8 , 2018 , 15:51 IST

भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान दिलीप वेंगसरकर ने मुंबई में एक कार्यक्रम के दौरान कहा कि वर्ष 2008 में जब वह  BCCI  में नेशनल सिलेक्शन कमिटी के चीफ सिलेक्टर थे, तब विराट कोहली से जुड़े एक मसले पर उनका कार्यकाल छोटा कर दिया गया था। उन्होंने बताया कि श्रीलंका दौरे के लिए उन्होंने युवा कोहली को टीम में शामिल करने पर जोर डाला था क्योंकि 2008 में कोहली की कप्तानी में ही भारत ने अंडर-19 वर्ल्ड कप जीता था और कोहली सचिन तेंडुलकर की गैरमौजूदगी को पूरा कर सकते थे।

वेंगसरकर ने कहा कि तत्कालीन कोषाध्यक्ष एन. श्रीनिवासन अपनी टीम चेन्नई सुपरकिंग्स के बल्लेबाज एस. बद्रीनाथ को खिलाने पर डटे हुए थे और इससे वे नाराज भी हो गए और कुछ  दिन बाद ही मेरा मुख्य चयनकर्ता का कार्यकाल समाप्त कर दिया।

0

वेंगसरकर के मुताबिक ये बात तब की है जब श्रीलंका के खिलाफ वनडे और टेस्ट सीरीज के लिए हुई चयन समिति की बैठक में वह कोहली को ODI में मौका देना चाहते थे, लेकिन तत्कालीन कप्तान महेंद्र सिंह धोनी और कोच गैरी क्रर्स्टन संतुष्ट नहीं थे। वेंगसरकर ने कहा, 'मुझे लगा कि कोहली को टीम में शामलि करने का यह सही मौका है। अन्य चार चयनकर्ता भी मेरे फैसले से सहमत थे लेकिन गैरी और धोनी ने चूंकि कोहली को ज्यादा खेलते हुए नहीं देखा था इसलिए वह थोड़ा झिझक रहे थे। मैंने उन्हें बताया कि मैंने कोहली को बल्लेबाजी करते देखा है और हमें उसे टीम में शामिल करना चाहिए।' 

बद्रीनाथ ने 2008 में श्रीलंका के खिलाफ दूसरे वनडे से अपने वनडे करियर की शुरुआत की। उस सीरीज में खेले तीन मैचों में बद्रीनाथ ने 27*, 6 और 6 रन बनाए। कोहली ने पहले मैच में डेब्यू किया और सभी पांच मैचों में खेले। कोहली ने उस सीरीज में 12, 37, 25, 54 और 31 रन बनाए। भारतीय कप्तान विराट कोहली भी कई बार सार्वजनिक मंच पर पूर्व मुख्य चयनकर्ता दिलीप वेंगसरकर को उन्हें टीम में लाने का क्रेडिट दे चुके हैं। 

वेंगसरकर ने बताया, 'उन्होंने (श्रीनिवासन) मुझसे पूछा कि किस आधार पर बद्रीनाथ को बाहर किया जा रहा था। मैंने उन्हें बताया कि मैंने कोहली को ऑस्ट्रेलिया में बल्लेबाजी करते देखा है और वह बहुत शानदार बल्लेबाज हैं। इसी वजह से उसे टीम में लिया गया है। इस पर श्रीनिवासन का कहना था कि बद्रीनाथ ने तमिलनाडु के लिए 800 से ज्यादा रन बनाए हैं। वह 29 वर्ष का हो गया है उसे अब टीम में नहीं लिया जाएगा तो कब लिया जाएगा। इस पर मैंने कहा कि बद्रीनाथ को मौका मिलेगा लेकिन कब यह कह नहीं सकता। अगले दिन श्रीनिवासन श्रीकांत को लेकर तब के बीसीसीआई अध्यक्ष शरद पवार के पास गए और तभी मेरा कार्यकाल समाप्त हो गया।' 


कमेंट करें