नेशनल

अटल बिहारी वाजपेयी के 5 ऐतिहासिक भाषण, जिसे हर कोई सुनना चाहता है (VIDEO)

दीपक गुप्ता, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
3052
| अगस्त 16 , 2018 , 19:44 IST

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को न केवल एक कुशल राजनीतिज्ञ और प्रशासक के रूप में जाना जाता है, बल्कि वाजपेयी जी की पहचान एक प्रख्यात कवि, पत्रकार और लेखक की भी रही है। अटल जी की भाषण शैली इतनी प्रसिद्ध रही है कि उनका आज भी भारतीय राजनीति में डंका बजता है।

Atal-Bihari-Vajpayee_PTI1वाजपेयी जी जब जनसभा या संसद में बोलने खड़े होते तो उनके समर्थक और विरोधी दोनों ही उन्हें सुनना पसंद करते थे।ऐसा कहा जाता है कि अटल जी की भाषण शैली से पंडित नेहरू इतने प्रभावित हुए थे कि उन्होंने कहा था कि ये नवयुवक कभी ना कभी देश का प्रधानमंत्री ज़रूर बनेगा। बाद में नेहरू की ये भविष्यवाणी सही साबित हुई।

आइये सुनते हैं भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेयी के 5 ऐतिहासिक भाषण

1977 में केंद्र में जनता दल की सरकार बनी तो अटल बिहारी वाजपेयी को विदेश मंत्री बनाया गया। तब उन्होंने संयुक्त राष्ट्र संघ में भारत का प्रतिनिधित्व करते हुए हिंदी में भाषण दिया था। ये पहला मौका था जब संयुक्त राष्ट्र संघ में किसी नेता ने हिंदी में भाषण दिया था।

1996 में जब उनकी सरकार सिर्फ एक मत से गिर गई तो वाजपेयी ने संसद में एक जोरदार भाषण दिया था। वक्त प्रधानमंत्री के तौर पर यह वाजेपयी का अंतिम भाषण था। इस भाषण के बाद वह राष्ट्रपति को अपने इस्तीफा सौंपने चले गए थे। इस भाषण की आज भी मिसाल दी जाती है।

वीर सावरकर पर अटल बिहारी वाजपेयी का भाषण

पोखरण के परमाणु परीक्षण के बाद अटल जी का भाषण

अफगानिस्तान स्थित गजनी को लेकर दिया गया वाजपेयी का यादगार भाषण

ये पांच ऐतिहासित भाषण जो अटल बिहारी वाजपेयी की छवि के दर्शाते हैं।


कमेंट करें