नेशनल

मतभेद भुलाकर एक साथ आए 21 विपक्षी दलों के नेता, कांग्रेस के भारत बंद का किया समर्थन

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
2280
| सितंबर 10 , 2018 , 14:47 IST

पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों और डॉलर के मुकाबले रुपये की गिरती कीमत को लेकर कांग्रेस ने आज भारत बंद का ऐलान किया है। रामलीला मैदान में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के साथ,सोनिया गांधी, मनमोहन सिंह, शरद पवार, तारिक अनवर सहित कई दलों के विपक्षी नेता बैठे हुए हैं।

कांग्रेस अध्यक्ष राजघाट से रामलीला मैदान तक पैदल मार्च के बाद धरने पर बैठे हुए हैं। राहुल के साथ शरद पवार, शरद यादव, गुलाम नबी आजाद सरीखे नेता मौजूद हैं।

भारत बंद में शामिल होने के लिए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी राजघाट पहुंचे और महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि अर्पित की।

उड़ीसा के संबलपुर में कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने ट्रेनों को रोका। भारत बंद के कारण आज बेंलगुरू में स्कूल और कॉलेज बंद रखे गए हैं।

आंध्र प्रदेश के विशाखापट्टनम में माकपा कार्यकर्ताओं ने सड़कों पर प्रदर्शन किया। ये लोग पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों को लेकर सरकार का विरोध कर रहे हैं।

बंद को लेकर कांग्रेस का दावा है कि 21 विपक्षी दलों और कई व्यापार संगठनों ने बंद को समर्थन दिया है। लेकिन इस अहम मुद्दे पर भी क्या कांग्रेस सभी विपक्षी पार्टियों को अपने साथ लाने में कामयाब हुई है या नहीं। कांग्रेस की ओर से बुलाए गए भारत बंद को कई विपक्षी पार्टियों ने अपना समर्थन दिया है। जबकि कुछ पार्टियां इसके विरोध में भी खड़ी हो गई हैं।

‘भारत बंद’ का समर्थन करने वालों में शरद पवार की एनसीपी, डीएमके, पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवेगौड़ा की जनता दल (सेक्युलर), राज ठाकरे की महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना, जनता दल (शरद यादव), आरजेडी, हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा (हम), बीएसपी, सीपीआई, सीपीएम, पीडब्लूपी, शेतकरी कामगार पार्टी, आरपीआई और राजू शेट्टी की स्वाभिमानी शेतकरी पार्टी का समर्थन हासिल है।

पश्चिम बंगाल में सत्ताधारी तृणमूल कांग्रेस, नवीन पटनायक की बीजू जनता दल, महाराष्ट्र सरकार में बीजेपी की सहयोगी शिवसेना, नीतीश कुमार की जनता दल (यू) और दिल्ली में सत्तारूढ़ आम आदमी पार्टी (आप) ने इस बंद का विरोध किया है।


कमेंट करें