नेशनल

पारिवारिक कलह की वजह से भय्यूजी महाराज ने दी जान! 2017 में की थी दूसरी शादी

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
3438
| जून 12 , 2018 , 16:50 IST

अध्यात्मिक गुरु भय्यू महाराज (50) ने मंगलवार को यहां गोली मारकर खुदकुशी कर ली। उन्हें इंदौर के बॉम्बे अस्पताल ले जाया गया, लेकिन डॉक्टरों ने बताया कि वहां पहुंचने से आधा घंटे पहले ही उनकी मौत हो चुकी थी। इस पूरे घटनाक्रम में सबसे आश्चर्यजनक पहलू यह है कि दोपहर 1.57 बजे भय्यूजी महाराज ने मासिक शिवरात्रि की शुभकामना देते हुए ट्वीट किया था। जबकि इनकी मौत ट्वीट करने से पहले इंदौर के अस्पताल में मौत हो चुकी थी।

13 महीने पहले की थी दूसरी शादी

इंदौर की स्थानीय मीडिया के हवाले से खबर यह भी आ रही है कि भय्यूजी महाराज ने पारिवारिक कलह से तंग आ कर खुदकुशी की है। बता दें कि भय्यू महाराज ने 13 अप्रैल 2017 में ग्वालियर की डॉ. आयुषी से दूसरी शादी की थी। उनकी पहली पत्नी माध्वी का नवंबर 2015 में निधन हो गया था। पहली पत्नी से उनकी एक बेटी है जो पुणे में पढ़ाई कर रही है। सूत्रों के हवाले से कहा जा रहा है कि उनके पहले पत्नी की बेटी प्रेस कांफ्रेस कर भय्यूजी महाराज को एक्सपोज करने वाली थी। इसी डर से भय्यूजी महाराज ने खुदकुशी कर ली। भय्यूजी महाराज का सुसाइड नोट भी पुलिस को मिली है। अपने सुसाइड नोट में भय्यूजी महाराज ने लिखा था कि उनके आत्महत्या के लिए कोई भी जिम्मेवार नहीं है। 

 

पुलिस ने घटनास्थल को सील कर दिया है। मामले की जांच कर रही है। घटना की सूचना फैलते ही सैकड़ों की संख्या में उनके समर्थक अस्पताल पहुंच गए। मध्य प्रदेश सरकार ने कुछ महीने पहले ही उन्हें राज्यमंत्री का दर्जा देने की पेशकश की थी, जिसे उन्होंने ठुकरा दिया था।

Bh 5

हाईप्रोफाइल लोगों से रहा है नाता

भय्यू महाराज चर्चा में तब आए जब अन्ना हजारे के अनशन को खत्म करवाने के लिए तत्कालीन केंद्र सरकार ने अपना दूत बनाकर भेजा था। बाद में अन्ना ने उनके हाथ से जूस पीकर अनशन तोड़ा था। पीएम बनने के पहले गुजरात के मुख्यमंत्री के रूप में मोदी सद्भावना उपवास पर बैठे थे। तब उपवास खुलवाने के लिए उन्होंने भय्यू महाराज आमंत्रित किया था। पूर्व राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री विलासराव देखमुख, शरद पवार, लता मंगेशकर, उद्धव ठाकरे और मनसे के राज ठाकरे, आशा भोंसले, अनुराधा पौडवाल, फिल्म एक्टर मिलिंद गुणाजी भी उनके आश्रम आ चुके हैं।


कमेंट करें