नेशनल

मोदी हत्या साजिश: माओवादी विचारक वरवर राव और गौतम नवलखा गिरफ्तार

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
2430
| अगस्त 28 , 2018 , 17:57 IST

महाराष्ट्र पुलिस ने मंगलवार को माओवादी विचारक वरवर राव को कथित तौर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की हत्या की साजिश रचने में शामिल होने के आरोप में गिरफ्तार किया है। वरवर राव के परिवार के सदस्यों ने यह जानकारी दी। माओवाद का समर्थक माने जाने वाले राव के इतर गौतम नवलखा को भी पुलिस ने हिरासत में लिया है।

पुणे पुलिस की एक टीम ने उनके व परिवार के सदस्यों व दोस्तों के घरों की तलाशी के बाद क्रांतिक्रारी लेखक, कवि वरवर राव को गिरफ्तार किया। वरवर राव को चिकित्सा जांच के लिए सरकारी गांधी अस्पताल में भर्ती कराया गया है। उन्हें पुणे भेजे जाने से पहले अदालत के समक्ष पेश किए जाने की संभावना है। पुणे पुलिस ने जून में कथित तौर पर पांच लोगों में एक व्यक्ति के घर से मोदी की हत्या की साजिश के उल्लेख वाला एक पत्र बरामद किया था। इन पांचों लोगों को भीमा कोरेगांव हिंसा से जुड़े मामले में गिरफ्तार किया गया था।

बरामद पत्र में कथित तौर पर प्रधानमंत्री की हत्या पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की तर्ज पर करने की बात कही गई है। इस पत्र को लिखने वाले व्यक्ति की पहचान सिर्फ 'आर' के रूप में की गई है। इसमें साजिश को अंजाम देने के लिए एक एम-4 राइफल व चार लाख चक्र कारतूस खरीदने के लिए आठ करोड़ रुपये की जरूरत का जिक्र किया गया है। कहा जा रहा है कि इस पत्र में वरवर राव का नाम शामिल है।

वरवर राव क्रांतिकारी लेखकों के एक संगठन 'वीरसम' के अध्यक्ष हैं। राव ने इन आरोपों को खारिज किया है। उन्होंने कहा किइस मामले में गिरफ्तार सभी पांच लोग वंचितों की भलाई के लिए काम रहे थे।

जानिए, क्या है पूरा मामला

पुलिस अधिकारी ने बताया कि हैदराबाद में वामपंथी कार्यकर्ता और कवि वरवरा राव, मुंबई में कार्यकर्ता वेरनोन गोन्जाल्विस और अरुण फरेरा, छत्तीसगढ़ में ट्रेड यूनियन कार्यकर्ता सुधा भारद्वाज और दिल्ली में रहनेवाले गौतम नवलखा के घरों की तलाशी ली गई। वर्ष 1818 में हुई भीमा-कोरेगांव लड़ाई के 200 साल होने पर पिछले साल 31 दिसंबर को यलगार परिषद घटनाक्रम के सिलसिले में जून में गिरफ्तार पांच लोगों में से एक के घर पर पुलिस की तलाशी के दौरान जब्त पत्र में राव का नाम आया था।

भड़काऊ टिप्पणी की वजह से हुई थी हिंसा

घटना के बाद विश्रामबाग थाने में दर्ज प्राथमिकी के मुताबिक, कार्यक्रम में कथित तौर पर भड़काऊ टिप्पणी करने के बाद जिले के भीमा-कोरेगांव में हिंसा हुई थी। इसके बाद माओवादियों से जुड़ाव के आरोप में जून में पांच लोगों की गिरफ्तारी हुई थी। जून में एक साथ छापे के बाद दलित कार्यकर्ता सुधीर धावले को मुंबई में उनके घर से गिरफ्तार किया गया जबकि वकील सुरेंद्र गाडलिंग, कार्यकर्ता महेश राऊत और शोमा सेन को नागपुर से और रोना विल्सन को दिल्ली में मुनिरका में उनके फ्लैट से गिरफ्तार किया गया। पुलिस ने बताया कि गिरफ्तार किए गए पांचों लोगों और उनके साथ प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से जुड़े लोगों के घरों पर छानबीन की गई।

Master

विल्सन के मुनिरका स्थित फ्लैट से मिला था पत्र

गौरतलब है कि रोना जैकब विल्सन, सुधीर ढावले, सुरेंद्र गाडलिंग सहित पांच लोगों को गिरफ्तार किया गया था। विल्सन को दिल्ली से गिरफ्तार किया गया था, ढावले को मुंबई से, गाडलिंग, शोमा सेन और महेश राउत को नागपुर से गिरफ्तार किया गया था। पुलिस का कहना है कि यह पत्र विल्सन के दिल्ली के मुनिरका स्थित फ्लैट से बरामद किया गया है।

लेटर में रचा गया था षड्यंत्र

पत्र में कहा गया है, 'मोदी 15 राज्यों में बीजेपी को स्थापित करने में सफल हुए हैं। यदि ऐसा ही रहा तो सभी मोर्चों पर पार्टी के लिए दिक्कत खड़ी हो जाएगी। कॉमरेड किसन और कुछ अन्य सीनियर कॉमरेड्स ने मोदी राज को खत्म करने के लिए कुछ मजबूत कदम सुझाए हैं। हम सभी राजीव गांधी जैसे हत्याकांड पर विचार कर रहे हैं। यह आत्मघाती जैसा मालूम होता है और इसकी भी अधिक संभावनाएं हैं कि हम असफल हो जाएं, लेकिन हमें लगता है कि पार्टी हमारे प्रस्ताव पर विचार करे। उन्हें रोड शो में टारगेट करना एक असरदार रणनीति हो सकती है। हमें लगता है कि पार्टी का अस्तित्व किसी भी त्याग से ऊपर है। बाकी अगले पत्र में।'


कमेंट करें