राजनीति

भले ही कोर्ट का फैसला हमारे खिलाफ आया है, लेकिन हम देश छोड़कर नहीं भागेंगे: राबड़ी

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
1057
| मार्च 19 , 2018 , 19:40 IST

चारा घोटाले के चौथे मामले में बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के अध्यक्ष लालू प्रसाद को दोषी करार दिए जाने से दुखी उनकी पत्नी राबड़ी देवी ने सोमवार को कहा कि उन्हें इस मामले में अदालत से राहत की उम्मीद थी, परंतु ऐसा नहीं हो सका। चारा घोटाले के एक मामले में अदालत द्वारा लालू को दोषी ठहराए जाने के फैसले पर अपनी प्रतिक्रिया में पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी ने कहा, "मैं अदालत के फैसले का सम्मान करती हूं। कानून जो कहेगा, वह मानना पड़ेगा।" 

राहत की उम्मीद के संबंध में पूछे जाने पर उन्होंने कहा, "राहत की उम्मीद सभी को रहती है, हमलोगों को भी थी। इस फैसले के खिलाफ उच्च न्यायालय जाएंगे।" राबड़ी देवी ने देश में पिछले दिनों हुए घोटाले को लेकर सरकार पर निशाना भी साधा। उन्होंने कहा कि भले ही कोर्ट का फैसला उनके खिलाफ आया है, लेकिन वो देश छोड़कर भागने वालों में नहीं हैं। आपको बता दें कि राबड़ी के निशाने पर पीएनबी घोटाले का आरोपी नीरव मोदी और ललित मोदी था जो घोटाला सामने आने के बाद देश छोड़कर फरार हो गए।


चारा घोटाले में दुमका कोषागार से फर्जी निकासी के मामले में रांची की विशेष सीबीआई अदालत ने सोमवार को लालू प्रसाद को दोषी करार दिया। इससे पहले भी चारा घोटाले के तीन मामलों में लालू दोषी ठहराए जा चुके हैं। लालू के बड़े बेटे तेजप्रताप यादव ने कहा, "मेरे पिताजी को फंसाया गया है। वह बीमार हैं, फिर भी उन्हें अस्पताल से अदालत लाया गया। अदालत के फैसले पर कोई भी टिप्पणी उचित नहीं है। हमलोग ऊपरी अदालत का दरवाजा खटखटाएंगे, वहां से न्याय की उम्मीद है।"

Hhh

इधर, राजद प्रवक्ता शक्ति सिंह ने कहा कि पूर्व फैसले के खिलाफ भी रांची उच्च न्यायालय में गुहार लगाई गई है, और इस फैसले के खिलाफ भी ऊपरी अदालत जाएंगे। उन्होंने कहा कि लालू प्रसाद को न्याय अवश्य मिलेगा। 


कमेंट करें