राजनीति

BJP- JDU के बीच सुलझा सीटों के बंटवारे का मामला, जल्द होगा आधिकारिक एलान

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
1939
| सितंबर 16 , 2018 , 21:22 IST

2019 के लोकसभा चुनाव की तैयारियां शुरू हैं। इस चुनावी रण के लिए सब अपने नजदीकी पार्टियों के साथ तालमेल बढ़ाना भी शुरू कर दिया है। इस दिशा में लोकसभा 2019 के चुनावी बिगुल बजने से पहले बिहार में भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) और जनता दल युनाइटेड (जेडीयू) के बीच सीटों के बंटवारे पर सहमति बन गई है। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने रविवार को राष्‍ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में खुद इसका ऐलान किया।

दोनों पार्टियां इसपर काफी लंबे वक्त से विचार कर रही थीं, इस दौरान कई बार दोनों ही पार्टियों के नेताओं की बीच मतभेद देखने को मिले। आखिर रविवार को इस मसले को सुलझा लिया गया। जेडी (यू) के नेता आरसीपी सिंह ने इस बारे में जानकारी दी। उन्होंने यह भी कहा कि चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर के उनकी पार्टी में आने से उन्हें और मजबूती मिलेगी।

सीटों के बंटवारे पर बोलते हुए आरसीपी सिंह ने बताया कि दोनों पार्टियों के बीच काफी लंबे वक्त से बातचीत चल रही थी और अब यह आखिरी स्टेज पर है। सिंह ने बताया कि इसके बारे में जल्द ही कोई आधिकारिक सूचना दी जाएगी।

नीतीश कुमार ने क्या कहा-:

नीतीश कुमार ने कहा कि बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह से उनकी बातचीत हो गई है। उन्होंने बताया कि 12 जुलाई को जब अमित शाह पटना आए थे तब इस मुद्दे पर बात हुई थी। इसके बाद भी इस मसले पर हमने बात की।उन्‍होंने कहा कि सीट संख्या को लेकर कुछ दिनों के बाद ऐलान कर लिया जाएगा।

वो बीजेपी और जनता दल यू के इस तालमेल से पूरी तरह से संतुष्ट हैं। नीतीश कुमार के इस बयान से अब साफ है कि बीजेपी और जेडीयू बिहार में लोकसभा का चुनाव मिल कर लड़ेगी। बता दें कि 12 जुलाई को जब बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह पटना आए थे तब कहा गया था कि चार हफ्तों में यानि एक महीने के अंदर सीटों का बंटवारा हो जाएगा। खुद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने एक प्रेस कांफ्रेंस में ये बात कही थी लेकिन अब 2 महीने हो गए।

प्रशांत किशोर की ऐंट्री-:

बता दें कि रविवार को चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर ने (जेडीयू) का दामन थाम अपनी राजनीतिक पारी की शुरुआत की है। इसपर बोलते हुए सिंह ने कहा, 'अगर कोई चुनावी रणनीति बनाता है तो वह चुनाव को अच्छी तरह से समझता भी है। वह (प्रशांत) इसके लिए नए नहीं हैं। उनके हमारे साथ जुड़ने की हमें भी खुशी है।

हम बाकी पार्टियों से कुछ अलग हैं। हमारे साथ काम करनेवाले जानते हैं कि यहां अपार संभावनाएं हैं। वह हमारे काम को और मजबूती देंगे।' बता दें कि इससे पहले प्रशांत के पार्टी में शामिल होने पर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने प्रशांत किशोर को 'भविष्य' बताया था। इससे उन्हें नीतीश का उत्तराधिकारी भी समझा जाने लगा।


कमेंट करें