नेशनल

राख का हर एक कण मेरी गर्मी से गतिमान है, मैं एक ऐसा पागल हूं जो जेल में भी आजाद है

दीपक गुप्ता, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
1903
| सितंबर 28 , 2018 , 07:34 IST

भारत की आजादी के लिए अपना सर्वस्व कुर्बान करने वाले शहीद-ए-आजम भगत सिंह का जन्म 28 सितंबर 1907 को हुआ था। भारत की आजादी का सपना लेकर सपना लेकर लड़ने वाले भगत सिंह ने आजादी के लिए कोई कसर नहीं छोड़ी थी। लेकिन उसके बावजूद भी शहीद भगत सिंह के जीवित रहते हुए भारत आजाद न हो सका। भगत सिंह का परिवार सिख समुदाय से था और देशप्रेम की भावना से ओतप्रोत रहता था। भारत के वीर स्वतंत्रता सेनानी भगत सिह के पिता का नाम किशन सिंह और माता का नाम विद्यावती था।

Bhagat5513 अप्रैल 1919 को जालियां वाला बाग़ में अमृतसर के जर्नल 'डायर' ने निहत्थे और निर्दोष भारतीयों के साथ दर्दनाक मौत का खेल खेला. जलियांवाला बाग पूरी तरह खून में सराबोर हो गया था। इस नरसंहार में हज़ारों लोग बेमौत मारे गए थे।

55555भगत सिंह करीब बारह वर्ष के थे जब जलियाँवाला बाग हत्याकाण्ड हुआ था। इसकी सूचना मिलते ही भगत सिंह अपने स्कूल से 12 मील पैदल चलकर जलियाँवाला बाग पहुँच गये। इस उम्र में भगत सिंह अपने चाचाओं की क्रान्तिकारी किताबें पढ़ कर सोचते थे कि इनका रास्ता सही है कि नहीं ?

BBBBBBजालियां वाला बाग पहुंच कर बालक भगत सिंह ने मैदान को देखा और उस मिटटी के पर छूकर उस पात्र में बाग़ की मिटटी खोद कर भर ली, और कहा,यह मेरे देश की मिट्टी मेरे लिए, पूजनीय है, लेकिन मेरे देशवासियों के लहू से सींची यह मिट्टी मेरे लिए विधाता तुल्य हो गई है। अब मैं यह संकल्प लेता हूँ कि जब तक इन अंग्रेजों को देश से बाहर खदेड़ नहीं देता चैन से नहीं बैठूंगा।

JJJभगत सिंह के परिवार वाले कभी ये नहीं चाहते थे, कि भगत सिंह इस तरह से देश के लिए लड़ें। आजादी की लौ दिल में जलाए शहीद भगत सिंह ने अपने स्कूली दिनों से ही एक आजाद भारत का सपना देख लिया था और जब वे इसके लिए तैयार हुए तब वे अंग्रेजों के खिलाफ लड़ना सीख चुके थे। परिवार की अनुमति के बिना ही घर से भाग जाना, मित्रों के साथ समय बिताना और देश के लिए मर मिटने का जज्बा ये सभी बातें भगत सिंह को आज के इस आधुनिक युग में याद दिलाती हैं।

Imagesभगत सिंह बड़े होते गए कड़े काम करते गए और एक दिन उनकी मुलाक़ात चंद्रशेखर आज़ाद से हो गई। आज़ाद ने देश भर के क्रांतिकारियों कि एक पार्टी बना रखी थी जिसका नाम था 'हिन्दुस्तान सोशलिस्ट रिपब्लिकन आर्मी' उस समय इनकी नज़र में आया 'लाला लाजपत राय' के सर पर लाठी से वार करने वाला पुलिस अफसर 'सांडर्स' चंद्रशेखर,भगत और सुखदेव ने योजना बनाकर सांडर्स को गोली मार दी और चलते बने।

7897898 अप्रैल 1929 को सेंट्रल असेम्बली में पब्लिक सेफ्टी और ट्रेड डिस्प्यूट बिल पेश हुआ। अंग्रेजी हुकूमत को अपनी आवाज सुनाने और अंग्रेजों की नीतियों के प्रति विरोध प्रदर्शन के लिए भगत सिंह और बटुकेश्वर दत्त ने असेम्बली में बम फोड़कर अपनी बात सरकार के सामने रखी। दोनों चाहते तो भाग सकते थे, लेकिन भारत के निडर पुत्रों ने हंसत-हंसते आत्मसमर्पण कर दिया।

Bhagat-Singh-Sukhdev-and-Rajguruटिप्पणियां दो साल तक जेल में रहने के बाद 23 मार्च, 1931 को सुखदेव, राजगुरु के साथ 24 साल की उम्र में भगत सिह को लाहौर जेल में फांसी दे दी गई। सरफरोशी की तमन्ना लिए भारत मां के इन सपूतों ने अपने प्राण मातृभूमि पर न्योछावर कर दिए। उनका जज्बा आज भी युवाओं के लिए एक सीख है। भारत आजाद हुआ, मगर अभी भी यह देश वैसा नहीं बन पाया, जैसा भगत सिंह चाहते थे।

शहीद-ए-आजम भगत सिंह को शत शत नमन!


कमेंट करें