मनोरंजन

31 साल के हो गए 'छोटे बच्चे' आदित्य, बचपन में ही तीनों खानों के साथ कर चुके हैं काम

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
2871
| अगस्त 6 , 2018 , 12:48 IST

बॉलीवुड के मशहूर गायकों में शुमार उदित नारायण के बेटे आदित्य नारायण आज अपना 31वां जन्मदिन मना रहे हैं। फिल्मी जगत में वो न सिर्फ एक गायक के रूप में प्रसिद्ध हैं बल्कि चाइल्ड आर्टिस्ट, अभिनेता और होस्ट के लिए भी जाने जाते हैं।

साथ ही वो अलावा वो कंपोजर भी हैं। फिल्मों में आदित्य ने कई फेमस गाने गाए हैं और बचपन से ही उन्होंने फिल्मों में काम करना शुरु कर दिया था। आदित्य इंडस्ट्री में तीनों खान के साथ काम कर चुके हैं।

As

फिल्मों और गायकी के अलावा आदित्य को विवादों में पड़ते भी खूब देखा गया है। उन्हें लेकर आए दिन कुछ न कुछ विवाद खड़ा ही हो जाता था। उनके जन्मदिन की ऐसी कई दिलचस्प कहानियों से आपको रूबरू कराएंगे।

300 से ज्यादा कॉन्सर्ट कर चुकें हैं आदित्य-

महज 4 साल की उम्र में आदित्य नारायण ने पहली बार गाना गाया था। इसके बाद छोटे से आदित्य ने धीरे धीरे फिल्मों में कैमियो करना शुरू किया। आदित्य नारायण ने कल्याणजी वीरजी शाह से गायिकी की ट्रेनिंग ली थी। उस दौरान आदित्य 'लिटिल वंडर्स' कॉन्सर्ट के दौरान गाया करते थे। 'लिटिल वंडर्स' एक ऐसा प्लेटफॉर्म था जहां पर बच्चे किसी भी तरह की कला का प्रदर्शन कर सकते थे। आदित्य ने 300 से ज्यादा बार कॉन्सर्ट में परफॉर्म किया था।

Udit-Narayan-aditya

आदित्य नारायण ने पहली बार साल 1992 में बतौर प्लेबैक सिंगर गाया था। यह एक नेपाली फिल्म थी जिसका नाम 'मोहिनी' था।  इसके बाद साल 1995 में आदित्य ने पहली बार अपने पिता उदित नारायण के साथ 'अकेले हम अकेले तुम' फिल्म के लिए गाया था। आदित्य नारायण ने आशा भोसले के गाए गाने 'रंगीला' में कैमियो भी किया था।

22013

आदित्य ने बतौर चाइल्ड आर्टिस्ट कई फिल्मों में भी काम किया है। कहा जाता है कि सुभाष घई ने साल 1995 में आदित्य नारायण को पहली बार देखा था जब वह 'लिटिल वंडर्स' ग्रुप के साथ परफॉर्म कर रहे थे। इसके बाद सुभाष घई ने उन्हें 'परदेस' फिल्म के लिए साइन कर लिया था। इस फिल्म में शाहरुख खान और महिमा चौधरी मुख्य किरदार में थे।

याई रे याई रे जोर लगा के नाचे रे, याई रे याई रे मिलके धूम मचाई रे........

फिल्मी सफर-

आदित्य ने अपने गायिकी का सफर 1995 में "रंगीला" नामक फिल्म से शुरू किया। इसके बाद "अकेले हम और अकेले तुम" में अपने पिता के साथ काम किया। इस फिल्म में संगीत निर्देशक अनु मलिक थे। इनका अभिनय का सफर भी 1995 में शुरू हुआ। तब यह बाल कलाकार थे और निर्माता व निर्देशक सुभाष घई इन्हें फिल्मफेयर पुरस्कार समारोह के दौरान देखा था। इसके बाद सुभाष ने इन्हें अपने आगामी फिल्म "परदेश" के लिए चुन लिया। इसके बाद "जब प्यार किसी से होता है" फिल्म में भी इन्होंने काम किया। इस फिल्म के लिए 1999 में इनका नामांकन ज़ी सिने पुरस्कार में सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेता के लिए हुआ था।

छोटा बच्चा समझ के न कोई आंख दिखा ना रे...,डिबी-डिबी डब-डब...

बाल कलाकार के रूप में इन्होंने 100 से अधिक गाने गाएं हैं। इनका सबसे अधिक प्रसिद्ध गाना "छोटा बच्चा जान के" है, जो 1996 के मासूम फिल्म का है। इन्हें सबसे पहला फिल्म पुरस्कार 1997 में स्क्रीन पुरस्कार के तरह से सर्वश्रेष्ठ बाल गायक का पुरस्कार मिला था। इसी गाने के लिए इन्हें स्क्रीन पुरस्कार की ओर से एक और पुरस्कार मिला था।

कभी न कभी तो मिलोगे कहीं पे हमको यकीं हैं,कभी न कभी तो मिलोगे कहीं पे हमको यकीं हैं....

आदित्य नारायण ने साल 2009 में आई फिल्म 'शापित' में मुख्य किरदार निभाया था। इस फिल्म को विक्रम भट्ट ने डायरेक्ट किया था। इस फिल्म के लिए आदित्य ने चार गाने न केवल गाए थे बल्कि उन्हें खुद ही लिखा था। इसी के साथ आदित्य ने कई फिल्मों में गाने भी गाए हैं। आदित्य ने 'रामलीला', 'बीवी नं 1', 'चाची 420' आदि कई फिल्मों में गाने गाए हैं।

होस्ट के रूप में भी काम कर चुकें हैं आदित्य-

FB_IMG_1515900437092

आदित्य पिछले कुछ सालों से टीवी की दुनिया में सक्रिय हैं। वो पॉपुलर सिंगिंग रियेलिटी शो सारेगामापा को 2007 से ही होस्ट कर रहे हैं। इसके अलावा उन्होंने साल 2011 में एक्स फैक्टर इंडिया को भी होस्ट किया था।

इन दिनों खतरों के खिलाड़ी सीज़न-9 की शूटिंग में बीजी हैं आदित्य-

Aditya-Narayan

आदित्य नारायण 16 भाषाओं में गाना गा चुके हैं। इस वक्त आदित्य नारायण रियलिटी शो 'खतरों के खिलाड़ी' सीजन 9 की शूटिंग कर रहे हैं। इसमें आदित्य बतौर कंटेस्टेंट नजर आएंगे। हाल ही में आदित्य एक स्टंट करते हुए घायल भी हो गए थे।

जन्म-

आदित्य नारायण का जन्म 6 अगस्त, 1987 में हुआ था। आदित्य पिता उदित नारायण और माता दीपा नारायण के इकलौते पुत्र हैं। उदित नारायण का जन्म नेपाल में हुआ था। फिल्म में अपना करियर बनाने के लिए उन्हें मुंबई में रहना पड़ा।


कमेंट करें