राजनीति

जिग्नेश ने कहा- BJP को मुझसे खतरा है, 9 को दिल्ली में करूंगा रैली

सतीश वर्मा, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
379
| जनवरी 5 , 2018 , 15:50 IST

गुजरात में बीजेपी सरकार पर एक बार फिर से दलित नेता जिग्नेश मेवाणी ने हमला बोला है। जिग्नेश मेवाणी ने दिल्ली में मीडिया को संबोधित करते हुए बीजेपी से सवाल किया है कि दलितों को शांतिपूर्ण रैली करने का हक है या नहीं ? मेवाणी ने प्रधानमंत्री मोदी पर तीखा प्रहार करते हुए कहा है कि अब समय आ गया है कि केंद्र सरकार को दलितों को लेकर अपना रुख साफ कर देना चाहिए। जिग्नेश मेवाणी ने मांग की है कि दलितों पर हो रहे अत्याचारों पर प्रधानमंत्री मोदी अपना बयान सामने लाएं।

महाराष्ट्र हिंसा पर पीएम मोदी क्यों नहीं बोल रहे हैं- जिग्नेश

जिग्नेश मेवाणी ने प्रधानमंत्री मोदी से महाराष्ट्र में हो रही हिंसा पर बयान देने की मांग की है और कहा है कि देश में दलित इस वक्त सुरक्षित नहीं महसूस कर रहे हैं और प्रधानमंत्री मोदी की दलितों के प्रति प्रतिबद्धता बनती है भी या नहीं? खुद को अंबेडकर का वक्त बताने वाले प्रधानमंत्री मोदी महाराष्ट्र में हो रही हिंसा पर खुलकर सामने क्यों नहीं आ रहे हैं।

Also Read: महाराष्ट्र हिंसा मामले में 16 FIR दर्ज, 300 से ज्यादा हिरासत में

जिग्नेश मेवाणी ने कहा कि प्रधानमंत्री का कार्यभार संभालने के बाद वेमुला, ऊना, सहारनपुर और भीमा कोरेगांव में दलितों को लगा था निशाना बनाया जा रहा है और यह वक्त ऐसा है, जिसमें केंद्र सरकार को अपनी स्थिति साफ करने चाहिए। मेवाणी ने कहा कि भिमा-कोरेगांव में दलितों द्वारा शांतिपूर्ण तरीके से रैली निकाली जा रही थी लेकिन उन पर हमला कर दिया गया।

जिग्नेश की सफाई- वो कभी भीमा कोरेगांव गए ही नहीं

जिग्नेश के अनुसार वह कभी भी भीमा कोरेगांव नहीं गए हैं और कभी भी उन्होंने किसी भी प्रकार का भड़काऊ भाषण नहीं दिया हैं। अगर ऐसा किसी निर्वाचित विधायक के साथ हो सकता है, तो यह काफी चिंता का विषय हैं। मेवाणी के अनुसार गुजरात में बीजेपी का अहंकार इस वक्त टूट गया है और 2019 में बीजेपी को खतरा नजर आता है। जिसके कारण उन्हें टारगेट किया जाता है और उनकी इमेज को लगातार खराब किया जा रहा हैं। मेवाणी ने कहा कि उन्हें निशाना बनाकर गुजरात का बदला BJP लेने में लगी हुई है और यह सब दर्शाता है कि कैसे एक दलित विधायक को टारगेट किया जा सकता है।

आपको बता दें कि जिग्नेश मेवाणी गुजरात के वडगाम से विधायक चुने गए हैं। महाराष्ट्र हिंसा पर उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र बंद में उन्होंने साथ नहीं दिया था। लेकिन मुंबई पुलिस ने उनके सेमीनार को रोक दिया और उनके खिलाफ FIR दर्ज कर ली गई। 


कमेंट करें