राजनीति

नाराज यशवंत सिन्हा ने बनाया 'राष्ट्र मंच', शत्रुघ्न बोले- BJP में बात रखने की आजादी नहीं

अमितेष युवराज सिंह | न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
885
| जनवरी 30 , 2018 , 20:56 IST

नरेन्द्र मोदी सरकार से नाराज चल रहे बीजेपी के वरिष्ठ नेता यशवंत सिन्हा ने मंगलवार को दिल्ली में 'राष्ट्र मंच' की घोषणा की। राजघाट पर राष्ट्रपिता महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि देने के बाद यशवंत ने कहा कि इस मंच के बैनर तले आंदोलन किया जाएगा। इस मौके पर कई पार्टियों के कई बड़े नेता मौजूद रहे।

राष्ट्र मंच बनाने के बाद उन्‍होंने कहा कि हम किसानों के मुद्दों को लेकर आंदोलन करेंगे। साथ ही दूसरे महत्‍वपूर्ण मुद्दों पर सरकार की ग़लत नीतियों को उजागर करेंगे। उन्‍होंने कहा कि राष्ट्र मंच का सबसे बड़ा मुद्दा किसानों का होगा। यशवंत ने कहा कि नोटबंदी को मैं आर्थिक सुधार मानता हूं, लेकिन बुरी तरह लागू की गई जीएसटी से छोटे उद्योग मर गए। बेरोज़गारी का क्या हाल है, भूख और कुपोषण के चलते बच्चों का भविष्य ख़तरे में है।

यशवंत सिन्हा के साथ बीजेपी सांसद शत्रुघ्न सिन्हा भी दिखे। मीडिया के सवाल पर उन्होंने कहा कि यह एंटी पार्टी एक्टविटी नहीं है। उन्होंने कहा कि यह रास्ता जेपी ने दिखाया था। शत्रुघ्न सिन्हा ने कहा कि उन्हें पार्टी में अपने विचार रखने का मंच नहीं मिल रहा था इसलिए उन्होंने राष्ट्र मंच में आने का फैसला किया है। उन्होंने साफ किया कि इस फैसले को पार्टी विरोधी गतिविधि के तौर पर ना लिया जाए। यह तो देशहित में उठाया गया एक कदम है।

यशवंत सिन्हा ने सोमवार को ट्वीट कर राष्ट्र मंच बनाने की जानकारी दी थी।

आपको बता दें कि यशवंत सिन्हा...मोदी के नेतृत्व वाली बीजेपी सरकार की हाल में कई मोर्चों पर तीखी आलोचना के लिए चर्चा में रहे हैं। उन्होंने अर्थव्यवस्था, बेरोजगारी और किसानों की समस्या को लेकर मोदी सरकार पर बार-बार सवाल उठाया है। बीते दिनों उन्होंने महाराष्ट्र में किसान आंदोलन में हिस्सा लिया था।

राष्‍ट्र मंच के कार्यक्रम में ये सभी हुए शामिल

शत्रुघ्न सिन्हा, दिनेश त्रिवेदी (टीएमसी), माजिद मेमन, संजय सिंह (आप), सुरेश मेहता (पूर्व मुख्यमंत्री गुजरात), हरमोहन धवन (पूर्व केंद्रीय मंत्री), सोमपाल शास्त्री (कृषि अर्थशास्त्र), पवन वर्मा (जेडीयू), शाहिद सिद्दीक़ी, मोहम्मद अदीब, जयंत चैधरी (आरएलडी), उदय नारायण चौधरी (बिहार), नरेंद्र सिंह (बिहार), प्रवीण सिंह (गुजरात के पूर्व मंत्री), आशुतोष (आप) और घनश्याम तिवारी (सपा)।


कमेंट करें