नेशनल

सावधान! बोतलबंद पानी में है प्लास्टिक

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
2261
| मार्च 16 , 2018 , 15:46 IST

अगर आप भी पीने के लिए बोतलबंद पानी का इस्तेमाल करते हैं तो सतर्क हो जाइए क्योंकि उसमें प्लास्टिक के कण हो सकते हैं। न्यू यॉर्क की स्टेट यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने 9 देशों में बेची जा रही 11 ब्रैंड्स की 250 बोतलों को टेस्ट किया जिसमें 90 प्रतिशत नमूनों में प्लास्टिक के अवशेष पाए गए हैं।

भारत के अलावा चीन, अमेरिका, ब्राजील, इंडोनेशिया, केन्या, लेबनान, मेक्सिको और थाइलैंड के बोतलबंद पानी के नमूनों की जांच की गई है। आपको बताते हैं कि किस ब्रैंड के बोतलबंद पानी में कितना प्लास्टिक पाया गया है...

ब्रैंड-    देश-    प्लास्टिक के कण 

ऐक्वा-  (इंडोनेशिया)- 4713 
ऐक्वाफिना- (अमेरिका, भारत)- 1295 
बिस्लेरी- (भारत)- 5230 
डासानी- (अमेरिका, केन्या)- 335 
इप्यूरा- (मेक्सिको)- 2267 
इव्लैन-  (फ्रांस)- 256 
गीऑसटाइना- (जर्मनी)- 5160 
मिनाल्बा- (ब्राजील)- 863 
नेस्ले प्योर लाइफ- (अमेरिका, थाईलैंड)- 10,390 
सन पेलेग्रीनो- (इटली)- 74 
वाहाहा- (चीन)- 731 

(सभी ब्रैंड्स का औसत: 1 लीटर में 325 प्लास्टिक के कण)

इन आंकड़ों पर नजर डालें तो पता चलता है कि अमेरिका और थाईलैंड में बिकने वाले बोतलबंद पानी नेस्ले प्योर लाइफ में सबसे ज्यादा प्लास्टिक पाया जाता है। इसमें 1 लीटर पानी में 10,390 प्लास्टिक के कण पाए गए। इसके बाद नंबर आता है भारत में बोतलबंद पानी बेचने वाले ब्रैंड बिस्लेरी का जिसके 1 लीटर पानी में 5,230 प्लास्टिक के कण पाए गए हैं। 

कैसे आया प्लास्टिक 
शोधकर्ताओं का मानना है कि बोतलबंद पानी में यह प्रदूषण पैकेजिंग के दौरान पनपता है। प्लास्टिक के जो अवशेष पाए गए हैं, उनमें पॉलीप्रोपाइलीन, नायलॉन और पॉलीइथाईलीन टेरेपथालेट शामिल हैं। इन सभी का इस्तेमाल बोतल का ढक्कन बनाने में होता है। 

नल का पानी ज्यादा सुरक्षित 
एक स्टडी में बताया गया है कि नल का पानी बोतलबंद पानी से ज्यादा सुरक्षित है। 1 लीटर के पानी की बोतल में औसत रूप से 10.4 माइक्रोप्लास्टिक के कण होते हैं और जो कि नल के पानी में पाए जाने वाले माइक्रोप्लास्टिक के कण से दोगुना होता है। 


कमेंट करें