इंटरनेशनल

जासूस हत्याकांड मामले में ब्रिटेन ने 23 रूसी राजनयिकों को देश से निकाला

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
1073
| मार्च 15 , 2018 , 19:10 IST

ब्रिटेन ने रूस के सभी राजनयिकों को एक हफ्ते में देश छोड़ने का आदेश दिया है। ब्रिटेन ने रूस पर आरोप लगाए हैं कि उसने रासायनिक हथियारों पर लगे प्रतिबंधों का उल्लंघन किया है।

ब्रिटेन ने रूस पर आरोप लगाए कि रूस ने अपने पूर्व रूसी जासूस को ब्रिटेन में नर्व एजेंट के जरिए ज़हर देकर मारने की कोशिश की थी। ब्रिटेन की प्रधानमंत्री थेरेसा मे ने संसद को बताया कि निष्कासित रूसी राजनयिक असल में अघोषित जासूस हैं।

इसके साथ ही थेरेसा मे ने रूसी विदेश मंत्री के फीफा विश्व कप के लिए भेजे निमंत्रण को भी खारिज कर दिया, उन्होंने कहा कि इस साल के अंत में रूस में होने वाले फुटबॉल विश्वकप में शाही परिवार हिस्सा नहीं लेगा।

वहीं रूस ने अपने ऊपर लगे तमाम आरोपों को खारिज कर दिया है। संयुक्त राष्ट्र में रूस के राजनयिक वेस्ली नेबेनज़िया ने मांग की है कि ब्रिटेन अपने आरोपों के समर्थन में पुख्ता सबूत पेश करे। वेस्ली नेबेनज़िया ने कहा कि''हम ब्रिटेन से मांग करते हैं कि वे अपने आरोपों को साबित करने के लिए पुख्ता सबूत पेश करे, बिना सबूतों के यह कहना कि ये आरोप सच्चे हैं, हम इन बातों पर ध्यान नहीं दे सकते।''

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में ब्रिटेन के अधिकारी जोनाथन एलेन ने कहा कि रासायनिक हथियारों का इस्तेमाल इतना ख़तरनाक है कि इन्हें युद्ध में प्रयोग करने पर भी प्रतिबंध लगा हुआ है। अमरीकी राजदूत निकी हैली ने भी ब्रिटेन का समर्थन किया है।

आपको बता दें कि कुछ दिन पहले दक्षिणी इंग्लैंड में रूस के एक पूर्व जासूस सर्गेई स्क्रिपल और उनकी बेटी यूलिया को ज़हर देकर मारने की कोशिश की गई थी। 66 साल के रिटायर्ड सैन्य ख़ुफ़िया अधिकारी स्क्रिपल और उनकी 33 वर्षीय बेटी यूलिया सेलिस्बरी सिटी सेंटर में एक बेंच पर बेहोशी की हालत में मिले थे। अभी भी उनकी हालत गंभीर बनी हुई है।

ऐसे आरोप लगाए गए हैं कि हत्या के इस प्रयास के लिए रूस में निर्मित नर्व एजेंट का इस्तेमाल किया गया।

टैग्स: Russian diplomats|Spy

कमेंट करें