ख़ास रिपोर्ट

ब्रिटिश मीडिया का तंज- हमने की 1.1 बिलियन पाउंड की मदद तो इंडिया ने बनाया Statue Of Unity

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 1
5514
| नवंबर 4 , 2018 , 14:54 IST

यह कौन सी अमीरी का दिखावा है। खैरात में हमने दिए 1 बिलियन पाउंड तो आपने 3000 करोड़ मूर्ति बनाने में खर्च कर दिए। यह तो पागलपन है। जी हां ऐसा ही कहा जा रहा है ब्रिटेन में सरदार पटेल की मूर्ति Statue Of Unity के बारे में। ब्रिटेन के एक सांसद औऱ मीडिया ने सरदार पटेल की मूर्ति Statue Of Unity के बनने की निंदा की है। ब्रिटेन में अब ये बहस छिड़ गई है कि जिस भारत को ब्रिटेन ने हाल के वर्षों में 1.1 अरब पाउंड की आर्थिक मदद दी है, उस देश ने इतनी बड़ी रकम एक मूर्ति पर क्यों खर्च कर दी। इस मूर्ति का निर्माण शुरू होने और काम जारी रहने के दौरान ब्रिटेन भारत को आर्थिक सहायता करता रहा।

ब्रिटेन ने भारत को 2013 में 1 बिलियन पाउंड की आर्थिक मदद की थी

इतना ही नहीं उन्होंने दावा किया है कि जिस बीच भारत यह मूर्ति बना रहा था उस बीच ब्रिटेन ने भारत को करीब एक अरब पाउंड की आर्थिक मदद दी। बता दें कि ब्रिटेन द्वारा बताई जा रही यह रकम पटेल की मूर्ति पर आए खर्च से कहीं ज्यादा है। खबर में एक सांसद ने यह भी कहा है कि ब्रिटेन को अब भारत की मदद नहीं करनी चाहिए।

Mm

ब्रिटेन की वेबसाइट, डेली मेल में इसका जिक्र है। खबर में यह साफ लिखा है कि ब्रिटेन के करदाताओं का पैसा प्रत्यक्ष रूप से मूर्ति निर्माण में नहीं लगा बल्कि भारत में हुए विभिन्न विकास कार्यों में लगा है। लेकिन अगर भारत अपना पैसा मूर्ति बनाने में खर्च नहीं करता तो उन प्रॉजेक्ट्स का खर्च खुद उठा सकता था। डेली मेल की डेडिंग से यह पूरी तरह स्पष्ट होता है कि ब्रिटेन सरकार की खैरात से भारत ने दुनिया की सबसे ऊंची प्रतिमा बनाई है।

यहां पढिए Daily Mail की खबर-That's rich! We gave £1billion aid to India as they built £330million statue

खबर में भारत को तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्था बताया गया है जो मंगल तक पहुंच गई है। लिखा गया है कि भारत को जितनी आर्थिक मदद मिलती है, उससे कई गुना ज्यादा की मदद वह खुद दूसरे देशों की करता है। ऐसा लिखकर ब्रिटेन द्वारा भारत को मदद देने का विरोध किया गया है। आगे दावा किया गया है कि यूके ने भारत को 2012 में 300 मिलियन, 2013 में 268 मिलियन, 2014 में 278 मिलियन और 2015 में करीब 185 मिलियन की आर्थिक मदद दी थी।

ब्रिटिश सांसद ने कहा- अब भारत को मदद देना बंद कर देना चाहिए

खबर में यूनाइटेड किंगडम के सांसद पीटर बोन का भी जिक्र है। जो कहते हैं, 'एक तरफ हमसे 1.1 अरब पाउंड की मदद ली गई और तब ही मूर्ति बनाने के लिए 330 मिलियन पाउंड खर्च कर दिए गए। यह बिल्कुल बकवास है और ऐसी चीज लोगों को पसंद नहीं आती।' खबर के मुताबिक, बोन ने आगे कहा कि यह दिखाता है कि भारत अपने पैसे कैसे खर्च करता है। अगर भारत ऐसी मूर्ति बना सकता है तो यह साफ है कि हमें उनकी मदद नहीं करनी चाहिए।

ब्रिटिश सांसद पीटर बोन का कहना है कि हमसे 1.1 बिलियन यूरो की मदद लेकर स्टैच्यू बनाने उसको खर्च कर देना बिल्कुल बकवास काम है। ये पागलपान है। भारत का यह कदम यह साबित करता है कि हमें उसे पैसे नहीं देना चाहिए। क्योंकि जब वो एक स्टैच्यू बनान में इतना पैसा खर्च कर सकते हैं तो उन्हे हमारी मदद की कोई आवश्यक्ता नहीं है।

 


कमेंट करें