नेशनल

केन्द्रीय मंत्री ने कहा- टीपू सुल्तान 'हत्यारा और बलात्कारी' था, जयंती में मुझे मत बुलाना

अमितेष युवराज सिंह | न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
1280
| अक्टूबर 21 , 2017 , 14:36 IST

टीपू सुल्तान की जयंती को लेकर विवाद बढ़ गया है। कर्नाटक की सिद्धारमैया सरकार 10 नवंबर को टीपू सुल्तान की जयंती मनाने के लिए कार्यक्रम करना चाहती है जिसका बीजेपी विरोध कर रही है। इसी कड़ी में केंद्रीय कौशल विकास राज्य मंत्री अनंतकुमार हेगड़े ने टीपू सुल्तान को 'बर्बर हत्यारा' और 'बलात्कारी' बताते हुए कर्नाटक सरकार को टीपू जयंती से जुड़े तमाम आयोजनों में उन्हें शामिल नहीं करने को कहा है।

हेगड़े ने इस बाबत कर्नाटक सरकार के शीर्ष अधिकारियों को पत्र लिखा है। मुख्य सचिव और उत्तरी कन्नडा के उपायुक्त को लिखे एक पत्र में हेगड़े ने 10 नवंबर को आयोजित होने वाली टीपू सुल्तान की जयंती कार्यक्रम में उनका नाम शामिल नहीं करने को कहा है।

हेगड़े इससे पहले 2016 में भी मैसूर के राजा रहे टीपू सुल्तान का जन्मदिवस मनाने का विरोध कर चुके हैं। हेगड़े ने अपने पत्र में लिखा है कि टीपू सुल्तान अत्याचारी था और उसने हजारों हिंदुओं का कत्ल और काडागू के लोगों पर अत्याचार किया था।

मामला बढ़ने पर कर्नाटक के मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने कहा था कि कार्यक्रम का न्योता राज्य और केंद्र सरकार के सभी नेताओं को भेजा जाएगा जिसे स्वीकार और नकार देना उनकी मर्जी है। सिद्धारमैया ने कहा,

इसे राजनीतिक मुद्दा बनाया जा रहा है। ब्रिटिशों के खिलाफ चार युद्ध लड़े गए और टीपू ने सभी में हिस्सा लिया था।

5 बार के लोकसभा सांसद हेगड़े सत्ताधारी कांग्रेस सरकार के आलोचक रहे हैं। वह 2015 से ही टीपू जयंती कार्यक्रम की आलोचना करते रहे हैं। 2015 में ही टीपू सुल्तान जयंती को राज्य स्तर पर मनाने का फैसला किया था।

आपको बता दें कि कर्नाटक सरकार के इस फैसले को कई संगठनों ने बेतुका बताया था। बीजेपी और आरएसएस ने राज्य सरकार के इस निर्णय की आलोचना की थी और इसे अल्पसंख्यकों के तुष्टीकरण की राजनीति बताया था। पिछले दो साल के दौरान टीपू जयंती समारोह के दौरान काफी विरोध प्रदर्शन हुए थे, बावजूद इसके राज्य सरकार इस कार्यक्रम को मना रही है।

 


कमेंट करें