नेशनल

देवरिया बालिका गृह केस की जांच करेगी CBI, लापता लड़की वृद्धाश्रम में मिली

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
2214
| अगस्त 8 , 2018 , 15:08 IST

यूपी के देवरिया में बालिका गृह में लड़कियों से यौन शोषण मामले में यूपी सरकार ने सीबीआई को जांच सौंप दी है। सीएम योगी आदित्यनाथ ने खुद इसकी सिफारिश की है। साथ ही विभागीय जांच STI से कराने का फैसला लिया गया है। इसकी जानकारी योगी आदित्यनाथ ने प्रेस कॉन्फ्रेस कर दी।

गोरखपुर के बालिका गृह से गायब एक लड़की को गोरखपुर के ही एक वृद्धाश्रम से मिली है। यह वृद्धाश्रम भी गिरिजा त्रिपाठी का है। पुलिस ने बालिका गृह की संचालिका गिरिजा त्रिपाठी की बेटी और बेटे को गिरफ्तार कर लिया है। बालिका गृह से छुड़ाई एक लड़की ने संस्था संचालक पर बच्चे बेचने का आरोप लगाया। उसने बताया कि कुछ दिन पहले यहां से चार लड़की और एक लड़का स्पेन भेजा गया था। इनमें जुड़वा बहनें भी थीं। इनकी उम्र 5 से 8 साल के बीच थी। बालिका गृह में एक लड़की की मौत होने की बात भी सामने आई है। इसकी जांच की जा रही है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारी सरकार में इन सिलसिलेवार घटनाओं पर जो पुलिस की भूमिका है उसकी भी जांच की जाएगी। यह जांच एडीजी गोरखपुर जोन करेंगे। उन्होंने कहा कि तथ्यों के साथ छेड़खानी न हो इसके लिए एस आई टी का गठन किया जा रहा है और एसटीएफ़ भी जांच करेगी। बरामद हुई बालिकाओं को वाराणसी भेजा जा रहा है।

सीएम योगी ने इस घटना के लिए मुख्य रूप से पिछली सपा सरकार की कार्यशैली को जिम्मेदार ठहराया। साथ ही देवरिया से हटाए गए डीएम सुजीत कुमार को चार्जशीट सौंपते हुए पुलिस की भूमिका की भी जांच के आदेश दिए हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि देवरिया की घटना दुर्भाग्यपूर्ण है, जिसके लिए अपर मुख्य सचिव महिला कल्याण रेणुका कुमार और एडीजी अंजू गुप्ता के नेतृत्व में जांच कमेटी देवरिया भेजी गई थी। कमेटी की जांच में निष्कर्ष आया है कि वर्ष 2009 से बाल गृह संचालित था। वर्ष 2017 में भाजपा सरकार ने इसको बन्द करने के आदेश दिए थे । ज़िला प्रशासन ने समय से काम नहीं किया। इसलिए डीएम को चार्जशीट दी जा रही है।


कमेंट करें