मनोरंजन

'चक दे इंडिया' गर्ल का ये मेडिटेशन पोज है खास, 44 साल में भी दिख रही हैं यंग

सतीश वर्मा, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
1426
| जनवरी 21 , 2018 , 14:26 IST

फिल्म 'चक दे इंडिया' (2007) में गोलकीपर का रोल प्ले करने वालीं विद्या मालवड़े ने इन दिनों भले की फिल्मों से दूर हैं लेकिन वो सोशल मीडिया पर लगातार एक्टिव हैं। हाल ही में विद्या ने अपने इंस्टाग्राम पर बिकिनी में फोटो शेयर की है।

 

A post shared by VidyaMMalavade (@vidyamalavade) on

फिल्म 'चक दे इंडिया' (2007) में गोलकीपर का रोल प्ले करने वालीं विद्या मालवड़े ने इन दिनों भले की फिल्मों से दूर हैं लेकिन वो सोशल मीडिया पर लगातार एक्टिव हैं। हाल ही में विद्या ने अपने इंस्टाग्राम पर बिकिनी में फोटो शेयर की है।

 

A post shared by VidyaMMalavade (@vidyamalavade) on

 

इसके अलावा भी उन्होंने कुछ फोटो शेयर की है, जिसमें वे काफी ग्लैमरस लुक में नजर आ रही हैं। 44 साल की विद्या के गॉर्जियस लुक के पीछे मेडिटेशन का हाथ है जिससे उन्हें खास लगाव है। वो अक्सर अपने सोशल हैंडल पर मेडिटेशन पोज में फोटोज पोस्ट करती रहती हैं। मेडिटेशन विद्या की डैली लाइफ का एक अहम हिस्सा है जिसे वो कभी मिस नहीं करती हैं।

रामजी लंदनवाले' के डायरेक्टर से की विद्या ने दूसरी शादी

विद्या की शादी 2002 में अरविन्द सिंह बग्गा से हुई थी, जो पायलेट थे। हालांकि शादी के कुछ साल बाद विद्या के पति की प्लेन क्रैश हादसे में मौत हो गई। विद्या ने 9 साल बाद दूसरी शादी संजय डायमा से की। संजय, आशुतोष गोवारिकर की फिल्म 'लगान' (2001) के स्क्रीनप्ले राइटर और एसोसिएट डायरेक्टर थे। बाद में संजय ने 'रामजी लंदनवाले' (2005) भी डायरेक्ट की। बता दें कि विद्या का जन्म 2 मार्च,1973 को मुंबई, महाराष्ट्र में हुआ था। उन्होंने लॉ की पढ़ाई की है और बतौर एयर होस्टेस उन्होंने अपने करियर की शुरुआत की थी। लेकिन किस्मत उन्हें बॉलीवुड में ले आई और वो एयरहोस्टेस से एक्ट्रेस बन गईं।

 

A post shared by VidyaMMalavade (@vidyamalavade) on

इन फिल्मों में किया काम

विद्या ने अपने एक्टिंग करियर की शुरुआत विक्रम भट्ट की फिल्म 'इंतेहा' (2003) से की थी, लेकिन फिल्म बॉक्स ऑफिस पर फेल हो रही। इसके बाद विद्या ने 'फुटपाथ' (2003) और 'माशूका' (2005) जैसी फिल्मों के साथ कई ऐड्स में भी काम किया। लेकिन 2007 में आई फिल्म 'चक दे इंडिया' से उन्हें अच्छी पहचान मिली। उन्होंने 'बेनाम' (2008), 'किडनैप' (2008), 'तुम मिलो तो सही' (2009), 'आपके लिए हम' (2010), 'नो प्रॉब्लम' (2010), 'वन्स अपॉन ए टाइम इन मुंबई दोबारा' (2013) सहित कई फिल्मों में काम किया है।

 


कमेंट करें