नेशनल

राजस्थान में स्कूल को प्राइवेट करने के खिलाफ 'चिपको आंदोलन'

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
186
| जनवरी 17 , 2018 , 21:44 IST

राजस्थान सरकार ने सभी सरकारी स्कूलों को पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप के तहत संचालित करने का फैसला किया है। बता दें ये आदेश जारी होते ही राज्यभर में इसके खिलाफ आंदोलन होने लगा। इतना ही नहीं लेकिन फतेहपुर में शिक्षकों-अभिभावको और स्कूली बच्चों ने 1974 के चिपको आंदोलन की तर्ज पर अपना विरोध जताने शुरू कर दिया। 

बारे दें राजस्थान के सीकर जिले के फतेहपुर में राजकीय स्कूल में शिक्षक, बच्चे और अभिभावक सभी ने दीवार से छिपक कर इस फैसले का विरोध किया। इन सभी को स्कूल की सरकारी व्यवस्था में आस्था है और यहां के बच्चे भी सरकारी सिस्टम में ही पढ़ाई करना चाहते हैं। इसी के कारण सभी लोग यहां के स्कू्लो को पीपीपी मोड (पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप) पर दिए जाने के विरोध में जमा हुए।

बच्चों और अभिभावकों द्वारा किये गए इस आंदोलन ने साल 1974 में पेड़ों की रक्षा के लिए उत्तराखंड में हुए चिपको आंदोलन की यादें ताजा कर दी। बता दें इसे लेकर शिक्षक संघ के नेताओं ने साफ़ कहा कि हम इस तरह से सरकारी स्कूलों को पीपीपी मोड पर संचालित किये जाने का वे विरोध हमेशा करते रहेंगे।

Chipko.jpg_1516197945_618x347
 

इतना ही नहीं उन्होंने आगे कहा की अगर सरकार ने पीपीपी मोड पर स्कूलों को संचालित किया तो हमारा अगला कदम जिला कलेक्ट्रेट की दीवारों से जाकर चिपको आंदोलन करके विरोध करेंगे।

जानकारी के लिए बता दें इससे पहले भी स्कूल को प्राइवेट करने को लेकर विरोध जताया जा चुके है। जिसमे अभिभावकों ने सरकार के फैसले का विरोध करते हुए कहा कि इन सभी स्कूल में भामाशाह का पैसा लगा है। तो फिर सरकार इसे पीपीपी मोड पर कैसे दे रही है।

 


कमेंट करें