बिज़नेस

लोन डिफॉल्टरों की लिस्ट का खुलासा नहीं करने पर RBI गवर्नर को CIC की नोटिस

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
1695
| नवंबर 5 , 2018 , 14:05 IST

केंद्रीय सूचना आयोग (सीआईसी) ने आरबीआई गवर्नर उर्जित पटेल को कारण बताओ नोटिस भेजा। सीआईसी ने सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बावजूद आरबीआई द्वारा विलफुल डिफॉल्टरों की लिस्ट का खुलासा न करने पर ये नोटिस भेजा। सीआईसी ने जवाब देने के लिए 16 नवंबर तक का वक्त दिया है।

सुप्रीम कोर्ट ने 50 करोड़ और उससे ऊपर का लोन लेने वाले विलफुल डिफाल्टरों के नामों का खुलासा करने का आदेश दिया था। सीआईसी ने उर्जित पटेल से यह भी पूछा कि क्यों ना उन पर अधिकतम जुर्माना लगाया जाए, क्योंकि सुप्रीम कोर्ट ने पूर्व सूचना आयुक्त शैलेष गांधी के आदेश को बरकरार रखा था और आरबीआई ने इस आदेश का सम्मान नहीं किया।

रघुराम राजन का पत्र सार्वजनिक किया जाए-सीआईसी

सीआईसी ने प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ), वित्त मंत्रालय और आरबीआई से यह भी कहा है कि पूर्व आरबीआई गवर्नर रघुराम राजन का खराब लोन पर लिखा गया पत्र भी सार्वजनिक किया जाए। सतर्कता आयुक्त श्रीधर आचार्युलु ने कहा- पटेल ने केंद्रीय सतर्कता आयोग में कहा था कि आयोग द्वारा सतर्कता के संबंध में जारी किए गए निर्देशों का लक्ष्य ज्यादा पारदर्शिता हासिल करना, समाज में ईमानदारी और सच्चाई की संस्कृित को बढ़ावा देना और संस्थानों में सतर्कता को और मजबूत करना है।

उन्होंने आगे कहा, "हमें लगता है कि आरबीआई गवर्नर और डिप्टी गवर्नर जो कहते हैं, उसमें और जो उनकी वेबसाइट आरटीआई पॉलिसी के बारे में कहती है, उसमें कोई समानता नहीं है। आचार्युलु ने कहा- जयंतीलाल मामले में सुप्रीम कोर्ट ने सतर्कता आयुक्त के निर्देशों को कायम रखा था, इसके बावजूद सतर्कता और जांच रिपोर्टों में काफी गोपनीयता रखी जाती है।'


कमेंट करें