नेशनल

CIC का विदेश मंत्रालय को निर्देश- PM मोदी के विदेश दौरे पर आए विमान खर्च का ब्योरा दें

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
315
| फरवरी 28 , 2018 , 08:41 IST

केंद्रीय सूचना आयोग (सीआइसी) ने विदेश मंत्रालय को प्रधानमंत्री के विदेश दौरे पर हुए खर्च से संबंधित रिकार्ड पेश करने का निर्देश दिया है। मंत्रालय से वर्ष 2013 से 2017 के बीच एयर इंडिया के चार्टर्ड प्लेन पर हुए व्यय का ब्योरा मांगा गया है।

मुख्य सूचना आयुक्त आरके माथुर ने मंत्रालय की दलील खारिज कर दी।

मंत्रालय का कहना था कि प्रधानमंत्री की विदेश यात्रा के लिए भारतीय वायुसेना और एअर इंडिया द्वारा किये गए बिल की राशि, संख्या और बिल की तारीख से जुड़े विवरण से संबधित दस्तावेज एक नहीं हैं। ऐसे में आवेदक द्वारा मांगी गई सूचना को एकत्रित करने के लिए बड़ी संख्या में अधिकारियों को लगाना पड़ेगा।

यह मामला (रिटायर्ड) कोमोडोर लोकेश बत्रा से जुड़ा है। उन्होंने आरटीआई डाल कर वित्त वर्ष 2013-14 और 2016-17 के बीच प्रधानमंत्री के विदेश दौरों से संबंधित बिल, चालान और अन्य रिकॉर्ड का खुलासा करने की मांग की थी।

सुनवाई के दौरान बत्रा ने कहा कि मंत्रालय ने उन्हें अधूरी जानकारी मुहैया कराई। इसके बाद उन्होंने केंद्रीय सूचना आयोग रुख किया। उन्होंने कहा कि वह चाहते थे कि जनता को इस बारे में सूचित किया जाए कि ये बिल और देय रकम अदायगी के लिए किस सार्वजनिक प्राधिकार के पास लंबित हैं। बत्रा ने कहा कि इन रेकॉर्ड को राष्ट्रीय सुरक्षा की आड़ में दबाया नहीं जा सकता।

ये भी पढ़ें-मुजफ्फरपुर हादसा: 9 बच्चों की मौत के आरोपी BJP नेता मनोज बैठा ने किया सरेंडर

बत्रा ने कहा, 'एयर इंडिया आर्थिक रूप से जर्जर एयरलाइन है। यह कंपनी कमाई नहीं कर रही है। इसलिए इन बिलों के भुगतान में देरी को विशालकाय ब्याज आंकड़े में शामिल किया जाना चाहिए। इसका भुगतान करदाताओं के पैसे से किया जाएगा।'

119 करोड़ के लंबित बिल चुका है पीएमओ -

मालूम हो कि धन की कमी से जूझ रहे एयर इंडिया के 119 करोड़ रुपये के लंबित बिलों को पीएमओ ने जनवरी 2017 में चुकाया था। ये बिल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कुछ विदेशी दौरों से संबंधित थे। माथुर ने साल 2017 में प्रधानमंत्री के विदेशी दौरों के यात्रा खर्चे से संबंधित फाइल नोटिंग्स का खुलासा करने से इनकार कर दिया था। लेकिन उन्होंने सार्वजनिक क्षेत्र की इकाइयों को सरकार द्वारा बिलों के समय पर भुगतान के बत्रा के अनुरोध पर संज्ञान लिया था।


कमेंट करें