नेशनल

बर्खास्त IPS अफसर संजीव भट्ट गिरफ्तार, इस मामले में हुई गिरफ्तारी

icon अमितेष युवराज सिंह | 0
2032
| सितंबर 5 , 2018 , 14:35 IST

गुजरात सीआईडी (क्राइम) ने पूर्व आईपीएस अधिकारी संजीव भट्ट को 1998 के मादक पदार्थ से जुडे़ एक मामले में बुधवार को गिरफ्तार कर लिया गया। इससे पहले संजीव भट्ट को गुजरात की CID क्राइम पूछताछ के लिए ले गई थी। फिलहाल सीआईडी टीम संजीव भट्ट से पूछताछ कर रही है। वही इस मामले में 6 लोगों को हिरासत में लिया गया है उन में तीन पूर्व आईपीएस अधिकारी शामिल हैं। सीआईडी का कहना है कि जिन्हें हिरासत में लिया गया है, उनके खिलाफ पुख्ता सबूत हैं।

जानकारी के मुताबिक पूर्व आईपीएस संजीव भट्ट पर आरोप है कि उन्होंलने अपने पद पर रहते हुए एक वकील को ड्रग्स के झूठे मामले में फंसाया था। बता दें कि 1998 के इस केस में राजस्थान के एक वकील पर होटल में अफीम रखने का केस लगाया गया था, बाद में ये केस झूठा साबित हुआ और पूरे देश में वकीलों का गुस्सा फूट पड़ा. राजस्थान में वकीलों की हड़ताल एक साल तक चलती रही. इस केस में एक जज को सेवानिवृत्ति भी लेनी पड़ी थी।

क्या है 1998 का केस?

1998 में संजीव भट्ट बनासकांठा एसपी के रूप में तैनात थे। उसी दौरान अहमदाबाद सेशंस जज आरआर जैन ने एक मामले में संजीव भट्ट से मदद मांगी थी, दरअसल जज आरआर जैन के नजदीक के रिश्तेदार फुटरमल की एक जमीन राजस्थान के पाली में थी। उनका पाली के वकील राज पुरोहित के साथ विवाद चल रहा था, ये विवाद मकान खाली करने को लेकर था। फुटरमल चाहते थे कि राजपुरोहित उनका मकान खाली करें, लेकिन वह उनका मकान खाली नहीं कर रहे थे। इसी मामले में संजीव भट्ट ने जज आरआर जैन की मदद की थी और मकान खाली कराया था। इसी मामले में कहा जाता है कि संजीव भट्ट ने वकील राजपुरोहित के खिलाफ होटल में अफीम रखाकर उन्हें फंसाया था।


author
अमितेष युवराज सिंह

लेखक न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया में असिस्टेंट एग्जीक्यूटिव एडिटर हैं

कमेंट करें