बिज़नेस

भाई की मदद के लिए आगे आये मुकेश अंबानी, खरीदेंगे R-Com के एसेट्स

icon अमितेष युवराज सिंह | 0
449
| दिसंबर 28 , 2017 , 21:33 IST

पिता के जन्मदिन पर बड़ा भाई छोटे भाई की मदद के लिए आगे आया है। मुकेश अंबानी की रिलायंस जियो इन्फोकॉम ने रिलायंस कम्युनिकेशंस (आरकॉम) के स्पेक्ट्रम, मोबाइल टावर और ऑप्टिकल फाइबर नेटवर्क सहित अन्य मोबाइल बिजनस असेट्स खरीदने का सौदा किया है। इस सौदे को मुकेश अंबानी के छोटे भाई अनिल अंबानी की कंपनी आरकॉम के लिए बड़ी राहत के रूप में देखा जा रहा है।

आरकॉम लगभग 45 हजार करोड़ रुपये के भारी बोझ से दबा है और लंबे समय से इसे चुकाने के प्रयासों में लगा हुआ है। रिलायंस जियो ने एक बयान में इस सौदे की जानकारी दी है।कंपनी ने कहा है कि उसने इस बारे में एक निश्चित समझौता किया है।

जियो के बयान में कहा गया है कि जियो या उसकी नामित इकाइयां इस सौदे के तहत आरकॉम और उसकी सम्बद्ध इकाइयों से चार कैटिगरीज- टावर, ऑप्टिक्ल फाइबर केबल नेटवर्क, स्पेक्ट्रम और मीडिया कनवर्जेंस नोड्स (एसीएन) असेट्स खरीदेगा।

जियो का कहना है ये असेट्स रणनीतिक महत्व के हैं और इससे जियो द्वारा वायरलैस और फाइबर टु होम समेत उद्यम सेवाओं की बड़े पैमाने पर शुरुआत में मदद मिलेगी। इस सौदे के बारे में सरकार और नियामकीय प्राधिकारों से मंजूरी ली जानी है।

Aa-Cover-hpfejbhopf3ti0f4fqagn8u9a3-20170528105317.Medi

जियो का कहना है कि आरकॉम के असेट्स के अधिग्रहण की प्रक्रिया उद्योग जगत के विशेषज्ञों के एक स्वतंत्र समूह की निगरानी में हुई और 2 दौर की निविदा प्रक्रिया में जियो सफल बोली लगाने वाले के रूप में उभरा है।

उल्लेखनीय है कि लोन के बोझ से दबे आरकॉम ने कर्जदारों के साथ एक नए सौदे को अंतिम रूप देने की घोषणा इसी मंगलवार को की थी। उसने कहा था कि नई व्यवस्था के तहत वह असेट्स की बिक्री से लगभग 40 हजार करोड़ रुपये जुटाएगा।

अनिल अंबानी ने कहा था कि इस योजना को उस चीनी बैंक का समर्थन भी है जिसने कंपनी को 1.8 अरब डॉलर का कर्ज चुकाने में असफलता के लिए राष्ट्रीय कंपनी विधि न्यायाधिकरण (एनसीएलटी) में घसीटा था।


author
अमितेष युवराज सिंह

लेखक न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया में असिस्टेंट एग्जीक्यूटिव एडिटर हैं

कमेंट करें