राजनीति

कांग्रेस का बड़ा आरोप: मोदी ने केदारनाथ में परंपरा का किया अपमान, लोगों को गुमराह

सतीश वर्मा, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 1
504
| अक्टूबर 21 , 2017 , 10:01 IST

कांग्रेस ने नरेंद्र मोदी पर केदारनाथ यात्रा के दौरान परंपरा का अपमान करने का आरोप लगाया है। कांग्रेस ने यह भी कहा है कि मोदी ने 2013 की त्रासदी के बाद केदारनाथ मंदिर के रिडेवलपमेंट वर्क को लेकर लोगों को गुमराह किया। कांग्रेस ने दावा किया है कि मोदी की केदारनाथ यात्रा की योजना गुजरात विधानसभा चुनाव को ध्यान में रखकर बनाई गई। बता दें कि मोदी शुक्रवार को केदारनाथ मंदिर पहुंचे थे।

केंद्र की कांग्रेस सरकार ने 2013 में 6000 करोड़ रुपए दिए थे

कांग्रेस के प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने शुक्रवार को कहा, "इतालवी चश्मा पहने हुए मोदी जब भगवान शिव के मंदिर में लोगों को संबोधित कर रहे थे, तो उनका अहंकार दिखाई दे रहा था। मोदी जी ने मंदिर के मुख्य द्वार के बाहर स्टेज से लोगों को संबोधित कर हमारी परंपरा और संस्कृति का अपमान किया। सुरजेवाला ने कहा, "मोदी जी ने भगवान शिव के सामने झूठ बोला। मोदी जी लोगों को यह बताना भूल गए कि केंद्र की कांग्रेस सरकार ने 2013 में केदारनाथ के रिडेवलपमेंट पैकेज के तौर पर 6000 करोड़ रुपए दिए थे।

गुजरात के सीएम की तरफ से मदद का कोई रिकॉर्ड नहीं

कांग्रेस के प्रवक्ता आरपीएन सिंह ने दावा किया कि केदारनाथ के रिडेवलपमेंट और बाढ़ से लोगों को बचाने के मामले में गुजरात के सीएम मोदी की तरफ से दी गई मदद का कोई रिकॉर्ड नहीं है। सिंह ने कहा, "यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि केदारनाथ में स्पीच के दौरान मोदी का अहंकार दिख रहा था। सिंह ने मोदी पर उत्तराखंड के लोगों को गुमराह करने का आरोप लगाया। सिंह ने कहा, "जब बाढ़ आई थी, तब केंद्र में यूपीए की सरकार थी, उसने रिहैबिलिटेशन वर्क के लिए एक कमेटी बनाई थी और मदद के लिए 8000 करोड़ रुपए की रकम भी मंजूर की थी।

वोटों का ध्रुवीकरण करने कोशिश कर रहे हैं मोदी

सुरजेवाला ने मोदी पर अवसरवादी राजनीति करने का आरोप लगाया और कहा कि मोदी वोटों का ध्रुवीकरण करने कोशिश कर रहे हैं और गुजरात चुनाव में जीत हासिल करने के लिए लोगों की भावनाओं को भड़का रहे हैं। सुरजेवाला ने पूछा कि क्या सिर्फ मोदी ही उत्तराखंड का रिडेवलपमेंट करने में सक्षम हैं? उन्होंने कहा, "जब शासक अहंकारी हो जाता है तो उसका पतन करीब होता है।

पीएम राज्य के लोगों का अपमान न करें

मीडिया से बातचीत में सिंह ने दावा किया कि कांग्रेस सरकार ने उस वक्त ही 2200 करोड़ रुपए जारी कर दिए थे, जबकि पिछले 3 साल में मोदी सरकार ने एक भी पैसे की मदद उत्तराखंड को नहीं दी है। सुरजेवाला ने कहा कि पीएम राज्य के लोगों का अपमान न करें और भगवान शिव को किसी की मदद की नहीं बल्कि लोगों की भक्ति की जरूरत है। सुरजेवाला बोले, "मोदी जी सच बहुत ताकतवर होता है और भगवान शिव सब कुछ जानते हैं। भगवान के दर्शन करते वक्त बयानबाजी से दूर रहना चाहिए।

मोदी ने केदारनाथ में क्या कहा था

मोदी शुक्रवार को केदारनाथ मंदिर पहुंचे थे। वहां अपनी स्पीच में उन्होंने कहा था, "उस समय मेरी स्वाभाविक संवेदनशीलता थी। मैं किसी राज्य का मुख्यमंत्री था। दूसरे राज्य में दखल करने का मुझे हक नहीं था, लेकिन मैं खुद को रोक नहीं पाया और मैं यहां चला आया था।

मैंने उस समय की सरकार से प्रार्थना की थी कि आप गुजरात सरकार को केदारनाथ के पुनर्निमाण का काम दे दीजिए। मैं देशवासियों का सपना पूरा कर दूंगा। उस वक्त के उत्तराखंड के सीएम और अफसर राजी हो गए। मैंने भी मीडिया में अपना संकल्प जाहिर किया। टीवी पर खबर आ गई। इससे दिल्ली में तूफान मच गया। उन्हें लगा कि गुजरात का यह मुख्यमंत्री केदारनाथ पहुंच जाएगा। इसके बाद उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पर दबाव आया। उन्होंने एक घंटे बाद ही कह दिया कि गुजरात को यह जिम्मा नहीं सौंपा जाएगा, हम ही करेंगे।"


कमेंट करें