नेशनल

गुजरात: घोड़ा रखने का शौक बना दलित के मौत का कारण, दबंगों ने कर दी हत्या

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 1
1505
| मार्च 31 , 2018 , 12:45 IST

गुजरात के भावनगर जिले में एक दलित को मात्र इसलिए मार दिया गया क्योंकि वो घोड़ा रखता था। क्षेत्र के निवासियों ने दावा किया है कि उमराला तहसील के टिंबी गांव में इस घटना के बाद से तनाव है। गांव के लोंगो ने बताया कि उसका कसूर केवल इतना था कि उसने शौक में एक घोड़ा पाल लिया था। ये बात दबंगों को नागवार गुजरी और उन्होंने तेजधार हथियार से उस युवक का मर्डर कर दिया।

पुलिस ने कहा कि पास के एक गांव से तीन संदिग्धों को गिरफ्तार किया गया है और आगे की जांच के लिए भावनगर अपराध शाखा से मदद मांगी गई है।

वारदात भावनगर से 60 किमी. दूर स्थित टींबी गांव की है। जहां रहने वाले 21 वर्षीय दलित युवक प्रदीप राठौड़ को घोड़ा रखने का शौक था। वह अक्सर घुड़सवारी किया करता था। गुरुवार की शाम वो अपने घोड़े पर जा रहा था। तभी रास्ते में कुछ दबंगों ने उसे रोका और घोड़े लेकर कहासुनी करने के बाद तेजधार हथियार से प्रदीप पर हमला कर दिया।

प्रदीप के पिता कालुभाई राठौर ने कहा कि प्रदीप धमकी मिलने के बाद घोड़े को बेचना चाहता था, लेकिन उन्होंने उसे ऐसा न करने के लिए समझाया। कालुभाई ने पुलिस को बताया कि प्रदीप गुरुवार को खेत में यह कहकर गया था कि वह वापस आकर साथ में खाना खाएगा।

उन्‍होंने बताया, 'काफी देर बाद तक जब वह नहीं आया तो हमें चिंता हुई और उसे खोजने लगे। हमने उसे खेत की ओर जाने वाली सड़क के पास मृत पाया। कुछ ही दूरी पर घोड़ा भी मरा हुआ पाया गया।' प्रदीप 10वीं की परीक्षा पास करने के बाद खेती में पिता की मदद करता था।

उसे घुड़सवारी का शौक था। आधिकारिक सूत्रों के अनुसार, राज्य सरकार ने मामले की रिपोर्ट मिलने के बाद यहां वरिष्ठ पुलिस अधिकारी को तैनात किया है।

गुजरात में दलितों पर अत्‍याचार-:

कालूभाई ने कहा, 'एक दिन मेरे बेटे ने खतरे के बारे में बताया था। इसके बाद मैंने धमकी देने वाले एक शख्‍स के रिश्‍तेदार से बात की थी और अनुरोध किया था कि इस मामले को खत्‍म किया जाए। हमने 30 हजार रुपये देकर घोड़ा खरीदा था। उन्‍हें क्‍यों परेशानी हो रही थी ?' भावनगर के एसी-एसटी सेल के उप पुलिस अधीक्षक एएम सैयद ने कहा, ' प्रदीप की निर्दयता से हत्‍या की गई है। हमने इस संबंध में तीन लोगों को गिरफ्तार किया है।'

इसे भी पढ़ें-: यूपी को मिली देश की सबसे लंबी एलिवेटेड रोड, गाजियाबाद में लोगों की राहें हुई आसान

आपको बता दें, इससे पहले भी गुजरात में दलितों के खिलाफ अत्‍याचार की कई घटनाएं हो चुकी हैं। कुछ महीने पहले ही ऊना में कथित गोरक्षकों ने दलित परिवार के 7 सदस्‍यों को कोड़े से मारा था। इस घटना का विडियो वायरल होने के बाद पूरे राज्‍य में व्‍यापक प्रदर्शन हुए थे। इसी तरह से आनंद जिले में दलित युवक जयेश सोलंकी को गरबा देखने पर पीट-पीटकर मारा डाला गया था।


कमेंट करें