खेल

इस तरह से डिविलियर्स और उनकी टीम ने पकड़ी ऑस्ट्रेलिया की बॉल टेम्परिंग

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
1923
| मार्च 28 , 2018 , 18:15 IST

ऑस्ट्रेलिया और दक्षिण अफ्रीका के बीच चल रही टेस्ट सीरीज के तीसरे मुकाबले में जो घटना घटी यानि बॉल टेम्परिंग का मामला उजागर हुआ वो पूरी तरह से ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट को झकझोर देने वाला है।

क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने भी इस मामले में कड़ा कदम उठाते हुए इस मामले में शामिल अपने तीन खिलाड़ी स्टीव स्मिथ, डेवड वॉर्नर और कैमरून बैनक्रॉफ्ट को वापस घर भेज दिया है। जिनके खिलाफ आज सज़ा ऐलान भी किया जाएगा।

लेकिन इसी बीच दक्षिण अफ्रीका के पूर्व तेज़ गेंदबाज़ और मौजूदी टीवी कॉमेंटेटर फेनी डिविलियर्स ने ये बताया है कि किस तरह से उन्होंने और कैमरा क्रू मेंबर्स ने मिलकर क्रिकेट जगत की इस काली घटना का खुलासा किया।

डीविलियर्स ने भांप गए थे कि ऑस्ट्रेलियन प्लेयर चीटिंग कर रहे हैं। दरअसल कमेंट्री कर रहे डीविलियर्स को लगने लगा था कि बॉल अचानक जरूरत से स्विंग हो गई है। उन्हें लगा कि यह यकीनन ऑस्ट्रेलियन प्लेयर की शरारत हो सकती है।

अपने शक को यकीन में बदलने के लिए उन्हें कैमरामैन को आगाह किया कि हर ओवर के बीच में बॉल पर फोक्स रखें। अगर ऑस्ट्रेलियन प्लेयर गेंद से छेड़छाड़ करते हैं तो आसानी से पकड़ें जाएंगे। ऐसा हुआ भी।

डिविलियर्स ने ऑस्ट्रेलियाई रेडियो स्टेशन को बताया कि उन्होंने कैमरा दल को आगाह किया था जिसने कैमरन बेनक्रोफ्ट को पीले टेप के टुकड़े से गेंद को रगड़ते हुए रंगे हाथों पकड़ा।

डिविलियर्स ने कहा- हमने कैमरामैन से कहा कि देखे । वे लोग जरूर गेंद पर कुछ लगा रहे हैं। हरी भरी पिच पर इतनी जल्दी रिवर्स स्विंग नहीं मिलती। यह कोई पाकिस्तानी विकेट नहीं है कि हर सेंटीमीटर पर दरारे हो।

डिविलियर्स ने कहा, 'मैंने पहले ही कह दिया था कि अगर वो 26वें, 27वें, 28वें ओवर में रिवरस्विंग हासिल कर रहे हैं तो ज़रूर कुछ अलग कर रहे हैं।' डिविलियर्स के मुताबिक कैमरा क्रू की लगभग आधे से एक घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद ये घचना कैमरे में कैद हुई।

इस पूरे घटनाक्रम पर फैनी ने कहा कि ये कैमार क्रू की पूरी टीम का मिलाजुला प्रयास था। जिसकी वजह से ये बड़ी घटना कैमरे में कैद हुई।

इसे भी पढ़ें-: सड़क हादसे में घायल शमी से मिलना चाहतीं है उनकी पत्नी हसीन जहां

फानी डीविलियर्स का कमाल-:

स्विंग गेंदबाजी फानी डीविलियर्स ने 24 साल पहले भी ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ शानदार प्रदर्शन कर अपनी टीम को जितवाया था। अपनी खतरनाक स्विंग गेंदबाजी के चलते डीविलियर्स ने जनवरी 1994 में ऑस्ट्रेलिया के दौरे पर गई दक्षिण अफ्रीका की अनुभवहीन टीम के सदस्य थे। दूसरे टैस्ट में उनकी टीम हार की कगार पर पहुंच गई थी। ऑस्ट्रेलिया को जीत के लिए सिर्फ 116 रन की जरूरत थी।

2018_3image_17_36_359204610devilliars-ll

ऐसे में अपना दूसरा टेस्ट खेल रहे डिविलियर्स ने 43 रन देकर छह विकेट लिए और दक्षिण अफ्रीका ने पांच विकेट से चमत्कारिक जीत दर्ज की जबकि उस मैच में उन्हें फालोआन खेलना पड़ा था।


कमेंट करें