नेशनल

दिल्ली: हिन्दू बीवी का श्राध करना चाहता था मुस्लिम पति, पुजारी ने मना कर दिया

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
1627
| अगस्त 10 , 2018 , 21:21 IST

मुस्लिम से शादी करने पर मंदिर सोसाइटी ने एक हिंदू महिला का श्राद्ध कराने से इनकार कर दिया क्योंकि उनका मानना था कि मुस्लिम व्यक्ति से शादी करने के बाद महिला हिन्दू नहीं रही, भले ही उसने अपना धर्म नहीं बदला था। पिछले हफ्ते पत्नी की बीमारी से मौत के बाद पति ने हिंदू रीति-रिवाज से उसका अंतिम संस्कार किया था, लेकिन चितरंजन पार्क इलाके की मंदिर सोसायटी ने परिवार को श्राद्ध करने की अनुमति नहीं दी... धर्म परिवर्तन किए बिना अंतर-धार्मिक विवाह की अनुमति देने वाले स्पेशल मैरिज एक्ट के तहत 20 साल पहले शादी करने वाले और कोलकाता में बसे इम्तियाज़ुर रहमान की पत्नी निवेदिता घटक का देहांत पिछले सप्ताह दिल्ली में मल्टी-ऑर्गन फेल्योर की वजह से हुआ था।

मंदिर सोसाइटी के अध्यक्ष अशितावा भौमिक ने बताया कि रहमान ने पहचान छिपाकर बेटी अम्बरीन के नाम पर बुकिंग कराई थी। जिसका नाम अरबी या मुस्लिमों जैसा नहीं था। महिला का गोत्र पूछने पर उनके मुस्लिम होने का पता चला।

Capture111111111111111111111

काली मंदिर सोसायटी के प्रमुख ने अफसोस ज़ाहिर किए बिना कहा, "हमने ऐसा हिन्दू परम्पराओं तथा रीति-रिवाज़ों का सम्मान करने के लिए किया... "यह पूछे जाने पर कि ऐसा किया जाना उस दिवंगत महिला की अंतिम इच्छा थी, जो हिन्दू मान्यताओं का पालन करती थी, अशिताव भौमिक ने कहा, "क्या पता, उस व्यक्ति के इरादे नेक नहीं हों, और वह अपने 50-100 रिश्तेदारों को लेकर मंदिर में घुस जाता, और वहीं नमाज़ पढ़ने लगता... तब हम क्या करते...? क्या हमें वैसा होने देना चाहिए था...?"

पत्नी चाहती थी श्राद्ध कराएं : रहमान ने कहा कि मजहब उनका निजी मामला है, इसके लिए कभी पत्नी से रिश्ते खराब नहीं हुए। निवेदिता चाहती थीं कि उनके निधन के बाद हिंदू धर्म के हिसाब से श्राद्ध कराया जाए। उनकी अंतिम इच्छा को लेकर मंदिर सोसाइटी की अध्यक्ष से पूछा गया तो उन्होंने कहा कि श्राद्ध करना ही है तो दिल्ली में क्यों, कोलकाता जाकर करें।


कमेंट करें