नेशनल

दिल्ली बनाम केंद्र: SC का फैसला दिल्ली के लोगों के साथ अन्याय: केजरीवाल

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
1689
| फरवरी 14 , 2019 , 13:41 IST

सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली सरकार और केंद्र सरकार के बीच अधिकारों के विवाद पर अपना फैसला सुना दिया है। इसके बाद मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने प्रेस कॉन्फ्रेंस करके इस फैसले को दिल्ली के साथ अन्याय बताया है। उन्होंने कहा, 'दिल्ली का मुख्यमंत्री एक चपरासी को भी ट्रांसफर नहीं कर सकता। यह दिल्ली के लोगों के विश्वास के खिलाफ अन्याय है और बहुत ही गलत फैसला है।

सीएम केजरीवाल ने कहा, 'अगर किसी ऐसे अधिकारी की नियुक्ति कर दी जाए जो हमारी बात न सुने तो मोहल्ला क्लीनिक कैसे चलेगी? अगर कोई कहे कि इसने भ्रष्टाचार किया है तो मैं क्या करूं? क्या मैं बीजेपी से बोलूं कि यह मामला देखो? यह सब बीजेपी ही तो करवा रही है। यह फैसला संविधान और जनतंत्र के खिलाफ है।

केजरीवाल ने कहा, 'इस बार आप प्रधानमंत्री बनाने के लिए वोट मत देना। दिल्ली को पूर्ण राज्य का दर्जा मिलना चाहिए। यहां के लोगों को अधिकार मिलना चाहिए। आप दिल्ली की सातों सीटें आम आदमी पार्टी को दीजिए। हम संसद में लड़कर बाध्य करेंगे कि दिल्ली को पूर्ण राज्य बनाया जाए।

उन्होंने कहा, 'हम इसका कानूनी समाधान निकालने की कोशिश करेंगे। मैं दिल्ली की जनता से कहना चाहूंगा केजरीवाल बहुत छोटा आदमी है। चार साल में हमने और मंत्रियों ने लड़-लड़कर काम करवाए हैं। फाइलें क्लियर करवाने के लिए अगर हम लोगों को दस दिन तक अनशन करना पड़े तो दिल्ली कैसे चलेगी? हर फाइल के लिए अगर एलजी के घर पर हमें अनशन करना पड़ा तो सरकार कैसे चलेगी।

शीला दीक्षित के बयान पर निशाना

केजरीवाल ने केंद्र सरकार के साथ दिल्ली कांग्रेस अध्यक्ष शीला दीक्षित पर भी निशाना साधा। उन्होंने कहा, 'जो शक्तियां शीला दीक्षित के पास थीं, उसकी 10 फीसदी भी हमारे पास नहीं हैं। जितना उन्होंने 15 साल में काम किया, उससे 10 गुना हमने चार साल में काम किया था। इस तरह के बयान ठीक नहीं हैं। कल इन शक्तियों की जरूरत आपको भी पड़ेगी।' बता दें कि शीला ने केजरीवाल सरकार के 4 साल के कार्यकाल की आलोचना की थी और कहा था कि इन चार सालों के दौरान दिल्ली बर्बाद की राह पर फिसली है।


कमेंट करें